.....कश्मीर के बाद अब बंगाल को हक दिलाने की बारी, किसने कहा ऐसा? जानिए यहां....

.....कश्मीर के बाद अब बंगाल को हक दिलाने की बारी, किसने कहा ऐसा? जानिए यहां....
.....कश्मीर के बाद अब बंगाल को हक दिलाने की बारी, किसने कहा ऐसा? जानिए यहां....

Shishir Sharan Rahi | Updated: 19 Sep 2019, 10:57:38 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

WEST BENGAL NEWS: UNION MINISTER VK SINGH ADDRESSED AT BARAKAR OF BENGAL, बराकर में बोले केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह, राष्ट्रीय एकता अभियान ...एक देश-एक संविधान जागरण सभा , कहा थोड़ी-बहुत बांग्ला भी जानते हैं

बराकर (WEST BENGAL). कश्मीर के बाद अब बंगाल के जन-जन को हक दिलाने की बारी है। क्योंकि बंगाल में अब एक और आतंक आ गया है, जिसे भगाना जरूरी है और बंगाल की संस्कृति को वापस लाना है। इसे बंगाल की भाजपा ही करेगी और इसकी शुरुआत आसनसोल की धरती से होगी। जी हां, यह किसी फिल्म का डॉयलाग नहीं बल्कि केन्द्रीय सडक़ ट्रांसपोर्ट हाइवे राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह की बेबाक टिप्पणी है। जिन्होंने पश्चिम बंगाल (WEST BENGAL) के बराकर में गुरुवार को आयोजित राष्ट्रीय एकता अभियान ...एक देश-एक संविधान जागरण सभा में कही। उन्होंने कहा कि वे थोड़ी-बहुत बांग्ला भी जानते हैं। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि बंगाल के बॉर्डर पर भाजपा के जोश को वे सैल्यूट करते हैं। सिंह ने कहा कि वे बंगाल को मई 1947 से ही जानते हैं जब स्वाधीनता संग्राम हुआ। वहीं 1971 में चरम पर रहे नक्सलवाद को नियंत्रण किया गया। उसके बाद 34 साल तक वाम का आतंक चला और उसका भी लगभग सफाया हुआ। चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि बंगाल में अब एक और आतंक आया है, जिसे भगाना है और उस बंगाल की संस्कृति को वापस लाना है। इसे बंगाल की भाजपा ही करेगी और इसकी शुरुआत आसनसोल की धरती से होगी।

धारा-370 पर बोले
धारा-370 पर उन्होंने कहा कि ये लड़ाई बंगाल के सपूत जनसंघ संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने ही लड़ी थी, जिसका आधा हिस्सा आज हमारा हो गया है। इसकी श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को जाता है।

ये थे मौजूद
कार्यक्रम में मौजूद भाजपा के तीनों मंडल अध्यक्ष बबलू पटेल, ललन मेहरा, अमित गोराई ने सिंह का स्वागत किया। मालदा के सांसद खगेन मुर्मू, डॉ. जयंत कुमार, राज्य सचिव सह-पार्षद बिजय ओझा, भाजपा जिलायक्ष लखन घरुई, कुलटी के नेताओ में सुब्रतो मिश्रा, केशव पोद्दार, डॉ. अजय पोद्दार, अमित सिंह, डॉ. प्रमोद पाठक, दीपक दुधानी, चिरकुंडा चेम्बर ऑफ कॉमर्स अध्यक्ष महावीर शर्मा, दिनेश अग्रवाल, गणेश राय, टुनटुन राय, पी गुप्ता, राणीसती सत्संग समिति के नवीन पोद्दार सत्यनारायण जालान आदि मौजूद थे। कार्यक्रम को सफल बनाने में सोनू चौरसिया, राजा खान, राजू यादव, जीशान कुरेशी, राजेश सिन्हा, दशरथ यादव तनुजा सक्रिय रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned