बच्चों के हाथ में अजगर देखकर लोगों के उड़ गए होश, पढि़ए खबर...

Vasudev Yadav

Publish: Nov, 14 2017 08:18:27 PM (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
बच्चों के हाथ में अजगर देखकर लोगों के उड़ गए होश, पढि़ए खबर...

- विज्ञान सभा ने किया जागरूक, बताया ये सांप नहीं होते जहरीले -उमावि तुमान में हुआ आयोजन

कोरबा . छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा और विज्ञान एवं तकनीकी विभाग द्वारा बच्चों में विज्ञान की समझ विकसित करने के साथ ही जागरूकता के लिए विज्ञान मेले का आयोजन किया गया। इस दौरान विषैले सांपों के जानकार भी यहां मौजूद रहे जिन्होंने बच्चों के हाथ में अजगर थमाकर उन्हें जागरूक किया गया और बताया कि इस नस्ल के सांप जहरीले नहीं होते।

यह दो दिवसीय विज्ञान मेला 12 व 13 नवंबर को करतला विकासखण्ड के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तुमान में आयोजित किया गया। यहां 12 विभिन्न स्कूल के छात्र-छात्राओं में वैज्ञानिक चेतना जगाने एवं विज्ञान में विद्यार्थियों की रुचि बढ़ाने के लिए विज्ञान प्रसार के कार्यक्रम के तहत किया गया।

पहले दिन मुख्य अतिथि एसके बंजारा मुख्य अभियंता (छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत मंडल) एवं अध्यक्ष छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा कोरबा ने कहा कि विद्यार्थी देश के भविष्य हैं। उनमें वैज्ञानिक चेतना जगा कर ही देश का भविष्य संवारा जा सकता है। स्कूल के प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल ने कहा कि तुमान व आसपास के क्षेत्र में वैज्ञानिक चेतना के प्रचार के लिए विज्ञान सभा द्वारा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तुमान के चयन पर आभार जताया।

कोरबा के पूर्व डिप्टी कलेक्टर विश्वास राव मेश्राम ने विद्यार्थियों को आकाश दर्शन करा कर उनकी जिज्ञासा को बढ़ाते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम से बच्चों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास होता है। दो दिवसीय विज्ञान मेला में प्रकाश, ध्वनि व विद्युत संबंधित वैज्ञानिक अवधारणाओं को स्पष्ट करते हुए महाविद्यालय के सहायक प्राध्यापक निधि सिंह, खुशबू राठौर, ज्योति दीवान द्वारा खेल-खेल में कई वैज्ञानिक गतिविधियां कराई गई। सर्पमित्र अविनाश यादव द्वारा विषैले सर्प और विषहीन सर्प का प्रत्यक्ष रूप से परिचय कराते हुए सांप के विभिन्न प्रजातियों को दिखाया गया। वेदव्रत उपाध्याय द्वारा प्रकृति विज्ञान को प्रयोग द्वारा समझाया गया।

बच्चों के हाथ में अजगर देखकर लोगों के उड़ गए होश, पढि़ए खबर...

इस मौके पर विद्यालय के हर्बल गार्डन को विज्ञान सभा द्वारा 40 औषधीय पौधे भी दिये गये। स्याहीमुड़ी के बाल वैज्ञानिक साजिया रात्रे और अनिल कुमार ने अपने विज्ञान मॉडल को प्रदर्शित किया। दो दिवसीय विज्ञान मेला में 9 विद्यालयों के 100 से अधिक विद्यार्थियो और शिक्षकों ने भाग लिया। कार्यक्रम में बाल विज्ञान के जिला समन्वयक डॉ फरहाना अली, प्राचार्य विवेक लांडे, हेमन्त माहुलीकर, दिनेश सिंह, सूर्यकांत सौलखे, वेद व्रत उपाध्याय, सीमा चतुर्वेदी, मालती जोशी, आयशा बेगम, कामता प्रसाद जायसवाल, ,भूपेंद्र राठौर एवं विज्ञानसभा कोरबा के सभी सदस्य मौजूद रहे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned