एक्ट्रोसिटी एक्ट में किए गए संशोधन के खिलाफ सड़क पर उतरा स्वर्ण समाज

एक्ट्रोसिटी एक्ट में किए गए संशोधन के खिलाफ सड़क पर उतरा स्वर्ण समाज

Shiv Singh | Publish: Sep, 06 2018 08:22:59 PM (IST) Korba, Chhattisgarh, India

- भारत बंद का कोरबा में आंशिक असर -संशोधन को स्वर्ण समाज और अन्य पिछड़ा वर्ग विरोधी बताया

कोरबा. एक्ट्रोसिटी एक्ट के प्रवधानों में केन्द्र सरकार की ओर से किए गए संशोधन के खिलाफ स्वर्ण समाज की ओर से बुलाये गए भारत बंद का कोरबा में आंशिक असर पड़ा। दुकाने खुली रही। कारोबार सामान्य रहा। समाज के लोगों ने शहर में रैली निकाली। प्रशासन के जरिए राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा।

केन्द्र सरकार द्वारा एक्ट्रोसिटी एक्ट में किए गए संशोधन के खिलाफ गुरुवार को स्वर्ण समाज सड़क पर उतर गया। संशोधन का विरोध किया। संशोधन को स्वर्ण समाज और अन्य पिछड़ा वर्ग विरोधी बताया। राजनीतिक हितों की पूर्ति के लिए स्वर्ण समाज की भावना को आहत करने का आरोप लगाया। संशोधन का विरोध करने गुरुवार को बड़ी संख्या में स्वर्ण समाज और अन्य पिछड़ा वर्ग का संगठन सड़क पर उतरा।

Read More : Breaking : बांगो टीआई पर अभद्रता का आरोप, सैकड़ों ग्रामीणों ने घेरा थाना

 

समाज के लोग अलग अलग टुकडिय़ों में सुभाष चौक तक पहुंचे। यहां से रैली निकाली गई। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बनाये रखने की मांग की। केन्द्र सरकार की ओर से एक्ट में किये गए संशोधन का विरोध किया। रैली मेनरोड होकर कोसाबाड़ी तक पहुंची। वहां समाज के लोगों ने राष्ट्रपति के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।

Read More : छत्तीसगढ़ का सियासी महासंग्राम : पाली तानाखार में भाजपा तलाश रही दमदार चेहरा, तो कटघोरा में कांग्रेस चाह रही वापसी

रैली में अग्रवाल सभा, राजपूत क्षत्रीय समाज, सर्व ब्राह्मण समाज, सामान्य पिछड़ा अल्पसंख्यक कल्याण समाज के लोग और पदाधिकारी शामिल हुए। सरकार को याद दिलाया कि संविधान में आरक्षण की व्यवस्था १० साल के लिए की गई थी। रैली में शामिल पिछड़ा वर्ग नेे आरक्षण का लाभ ले रहे छत्तीसगढ़ के बाहरी लोगों का आरक्षण खत्म करने की मांग की। पदोन्नति में आरक्षण को बंद करने के लिए आवाज उठाया। अन्य पिछड़ा वर्ग की तरह अनुसूचित जाति जन जाति वर्ग भी क्रिमिलेयर की श्रेणी बनाने की मांग की।

Ad Block is Banned