शहर में जगह-जगह लगे रहे कचरे के ढेर, कांग्रेस पार्षदों ने विरोध में कचरा उठाया...देखें वीडियो

Shailendra Tiwari | Publish: Sep, 04 2018 09:23:27 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

सफाई तो दूर सेक्टर कार्यालय तक नहीं खुले

 

कोटा। चुनावी डोरे डालने के लिए कोटा समेत प्रदेशभर से नवनियुक्त सफाई कर्मचारियों को मंगलवार को मुख्यमंत्री से संवाद के नाम पर जयपुर बुला लिया गया। इस कारण शहर की सफाई व्यवस्था चौपट हो गई। स्थिति यह थी कि सफाई होना तो दूर की बात, सेक्टर कार्यालय तक नहीं खुले। शहर में जगह-जगह कचरे और गंदगी के ढेर लगे रहे। वहीं कांग्रेस पार्षदों ने विरोध में अपने-अपने वार्डों में दो घण्टे तक सफाई कर विरोध जताया।

उप गौरव यात्रा के लिए भरे जा रहे ' बरसों पुराने गड्ढे'

निगम प्रशासन ने सोमवार रात को ही निगम कार्यालय के बाहर बसें खड़ी कर दी थी और निगम कर्मचारियों की निगरानी में बसों से मंगलवार तड़के सफाई कर्मचारियों को जयपुर के लिए रवाना गया। स्वास्थ्य निरीक्षक बसों में सफाई कर्मचारियों की हाजिरी दर्ज की गई। निगम के रिकॉर्ड के मुताबिक 2100 सफाई कर्मचारी गए हैं। निगम आयुक्त जुगल किशोर मीणा ने बताया कि ठेका सफाई कर्मचारियों से दो पारी में सफाई करवा गई है। कचरा परिहवन और डोर टू डोर कचरा संग्रहण की व्यवस्था पूर्व दिनों की भांति जारी रही है। हालांकि भाजपा के पार्षदों ने ही माना है कि शहर की सफाई व्यवस्था बुरी तरह बिगड़ गई है। ज्यादातर जगहों पर झाडू तक नहीं लगा है।


कांग्रेस पार्षदों ने झाडू लगाया कचरा उठाया

वार्डों में सफाई नहीं होने तथा सफाई कर्मचारियों को जबर्दस्ती जयपुर ले जाने के विरोध में कांग्रेस के पार्षदों ने अपने-अपने वार्ड में श्रमदान कर सफाई की और कचरें को ट्रॉली में डालकर साफ किया। नदी पार क्षेत्र स्थित सेक्टर 4 पर नेता प्रतिपक्ष अनिल सुवालका के नेतृत्व में सुबह 9 बजे से सफ ाई का कार्य शुरू किया। इसमें कांग्रेस कार्यकर्ताओं व वार्ड के लोगों ने सेक्टर कार्यालय से कुन्हाड़ी में महादेव मंदिर तक सफ ाई की। पार्षद दिलीप पाठक के नेतृत्व में कैथूनीपोल चौराहे से गांधी जी की पुल तक सफ ाई कर विरोध प्रदर्शन किया गया। पार्षद मोहम्मद हुसैन मोम्दा, मोनू कुमारी व शमा मिर्जा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने क्षेत्र में सफाई की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned