'इटेरेट-लर्न-इवोल्व से बड़ा बनेगा स्टार्टअप'

'इटेरेट-लर्न-इवोल्व से बड़ा बनेगा स्टार्टअप'

Shailendra Tiwari | Publish: Sep, 10 2018 06:09:35 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

राजस्थान स्टार्टअप मिशन और आई-स्टार्ट की दी जानकारी

कोटा. प्रदेश में लगातार विकसित हो रहे स्टार्टअप ईको सिस्टम की विस्तृत जानकारी देने के लिए आई-स्टार्ट कोटा द्वारा विद्यार्थियों के लिए विशेष सेमीनार आयोजित किया गया।
शुक्रवार को आयोजित सेशन में आई-नेस्ट कोटा के मेंटर अवनीश झा ने राजस्थान स्टार्टअप पॉलिसी, इन्क्यूबेशन सेंटर, मेंटरिंग असेसमेंट और आई-स्टार्ट द्वारा आंत्रेप्रेन्योर को दी जा रही तमाम सुविधाओं से विद्यार्थियों को अवगत कराया।


नए नोटों से भी ज्यादा सिक्योरिटी फीचर से लैस है डिग्री


क्या है स्टार्टअप
'इटेरेट-लर्न-इवोल्वÓ को स्टार्टअप्स का मंत्र बताते हुए झा ने कहा कि हमारे ईको सिस्टम कई ऐसी खामियां है, जिन्हें हम दूर कर सकते है, बशर्ते कि आपके पास उसे दूर करने की तरकीब हो। यही तरकीब या आईडिया अगर आपकी आय में तब्दील हो जाए तो स्टार्टअप बन जाता है। स्टार्टअप आईडिया के लिए जरूरी है कि हम उन विषयों पर रिसर्च करें जहां से ज्यादा से ज्यादा लोगों की प्रोबल्मस का सोल्यूशन निकलता हो क्योंकि अंतत: यही लोग आगे कंस्यूमर होंगे।

ट्रेलर रोडवेज बस से टकराया, चीख सुनकर मदद को दौड़े ग्रामीण

इसलिए जरूरी है स्टार्टअप
इकॉनोमी के बदलते परिवेश को लेकर झा ने कहा कि मौजूदा समय में देश की जनसंख्या 125 करोड़ है इनमें से तकरबीन 55 करोड़ के आसपास वे लोग है जो या कॉलेज में पढ़ रहे है नहीं तो रोजगार की तलाश में है। ऐसे में इतनी संख्या में रोजगार मुहैया कराना नामुमकिन सा है । इसलिए स्वरोजगार (स्टार्टअप) ही एक मात्र समाधान है जिसके जरिये हम स्वयं के साथ कई लोगों को रोजगार दे सकते है।

आई-स्टार्ट से कैसे जुड़े
रजिस्ट्रेशन प्रोसेस के बारे में जानकारी देते हुए झा ने बताया कि बतौर स्टार्टअप प्रोग्राम से जुडऩे के लिए आई-स्टार्ट की वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा। जरूरी जानकारी और दस्तावेजों के सत्यापन के बाद अप्रूवल मिलेगा। विद्यार्थियों को आई-स्टार्ट द्वारा स्टार्टअप को दिए जा रहे सस्टिनेंस अलावेंस, मार्केटिंग अलावेंस और इन्वेस्टर कनेक्ट जैसी तमाम जानकारियां भी दी गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned