मृत देह को कराया इंतजार, टाल वाले ने लकडिय़ां नहीं दी

कोटा शहर में एक बेटे को मां का अंतिम संस्कार करने के लिए मुक्तिधाम पर टाल वालों ने पैसे देने के बावजूद लकड़ी नहीं दी। दरअसल, निगम की ओर से मिल रही निशुल्क लकडिय़ां लेने से टाल वाला नाराज हो गया।

By: Haboo Lal Sharma

Published: 20 Jun 2021, 09:37 PM IST

कोटा. कोटा शहर में एक बेटे को मां का अंतिम संस्कार करने के लिए मुक्तिधाम पर टाल वालों ने पैसे देने के बावजूद लकड़ी नहीं दी। दरअसल, निगम की ओर से मिल रही निशुल्क लकडिय़ां लेने से टाल वाला नाराज हो गया। परिजन टाल वालों से एक क्विंटल छोटी लकडिय़ां देने की करीब दो घंटे तक मिन्नतें करते रहे, लेकिन वह नहीं माना। आखिरकार परिजनों ने कुल्हाड़ी का इंतजाम कर निगम से मिली मोटी लकडिय़ों को छोटी करके अंतिम संस्कार किया।
प्रत्यक्षदर्शी अंकित कुमार ने बताया कि उसके दोस्त डीसीएम निवासी राजू खटीक की मां मनभर बाई (65) का रविवार सुबह 9 बजे निधन हो गया। अंतिम संस्कार के लिए शव कंसुआ मुक्तिधाम ले आए। परिवार की माली हालत खराब होने के चलते उन्होंने नगर निगम की ओर से मिल रही निशुल्क लकडिय़ां ले ली, लेकिन लकडिय़ां मोटी होने से चिता तैयार नहीं हो पा रही थी। परिजनों ने मुक्तिधान के बाहर लकड़ी की टाल वालों से एक क्विंटल छोटी लकडिय़ां मांगी तो उन्होंने कहा कि लेनी हो तो चार क्विंटल ले लो, एक क्विंटल नहीं देंगे। मिन्नत करने के बाद भी टाल वालों ने लकडिय़ां नहीं दी तो परिजनों ने कुन्हाड़ी मंगवाकर मोटी लकडिय़ों को फाड़कर दो घंटे बाद चिता तैयार कर अंतिम संस्कार किया।

Haboo Lal Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned