आईसीटी लैब में लगेगा हर विषय का पीरियड

shailendra tiwari

Publish: Apr, 17 2018 04:29:51 PM (IST)

Kota, Rajasthan, India
आईसीटी लैब में लगेगा हर विषय का पीरियड

सरकारी स्कूलों में बनी आईसीटी लैब का पूरा उपयोग सुनिश्चित करने के लिए स्टूडेंट्स को हर विषय कम्प्यूटर्स के माध्यम से पढ़ाया जाएगा।

कोटा .

सरकारी स्कूलों में बनी आईसीटी लैब का पूरा उपयोग सुनिश्चित करने के लिए स्टूडेंट्स को हर विषय कम्प्यूटर्स के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। रमसा की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार, सप्ताह में हर विषय का कम से कम एक पीरियड आईसीटी लैब में ही लगाया जाएगा।

इसके लिए अलग से रजिस्टर रखा जाएगा। जिसमें शिक्षक आईसीटी लैब में कम्प्यूटर के माध्यम से पढ़ाने के बाद संस्था प्रधान से सत्यापित करवाकर रमसा कार्यालय को भिजवाना जरूरी होगा। आईसीटी लैब में क्लास के दौरान स्टूडेंट्स को एजुकेशनल वीडियो के माध्यम से सब्जेक्ट की जानकारी दी जाएगी। पहले इन स्कूलों में गणित व विज्ञान विषय ही कम्प्यूटर से पढ़ाए जाते थे, लेकिन सरकार ने इसमें बदलाव करते हुए अब विषय को कम्प्यूटर से पढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

कोटा हवाई सेवा :पैसे न देने पर फ्लाइट में पैदा किया गया व्यवधान
लैब का उपयोग हो सकेगा

स्कूलों में आईसीटी लैब का उपयोग बच्चों को कम्प्यूटर सिखाने तक सीमित नहीं रहेगा। इसका मुख्य उद्देश्य शिक्षण कार्य में कम्प्यूटर टेक्नॉलोजी को भी बढ़ावा देना रहेगा। इसे प्राइवेट स्कूलों की स्मार्ट क्लासेज को टक्कर देने के लिए शुरू किया गया था। अब आईसीटी लैब का वास्तविक उपयोग हो सकेगा।

Read More: फिर आ जुटा अटूट प्रेमियों का सबसे बड़ा रेला कलरव करते नजर आए 45 से अधिक सारस
सेटेलाइट प्रसारण के माध्यम से लगेगी क्लास

कोटा जिले में 296 राजकीय माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों में से 159 स्कूलों में आईसीटी कम्प्यूटर लैब स्थापित है। इनमें से 38 स्कूलों में सेटेलाइट प्रसारण की व्यवस्था है। शहरी क्षेत्र में आगामी दिनों में 30 स्कूलों में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत स्मार्ट व वर्चुअल क्लासेज का संचालन भी शुरु हो जाएगा। अब रिकॉर्ड संधारण की अनिवार्यता के बाद आईसीटी लैब वाले स्कूलों में स्टूडेंट्स को फायदा होगा। सेटेलाइट प्रसारण वाले स्कूलों में सेटेलाइट के माध्यम से विद्यार्थियों को पढ़ाया जाएगा।

Read More: वृद्ध के दोनों घुटनों का किया सफल प्रत्यारोपण
रमसा प्रभारी अधिकारी जावेद खान ने बताया कि सप्ताह में हर विषय का कम से कम एक पीरियड आईसीटी लैब में ही लगाया जाएगा। इसके लिए अलग से रजिस्टर रखा जाएगा। जिसमें आईसीटी लैब में कम्प्यूटर के माध्यम से पढ़ाए जाने वाले शिक्षकों को रिकॉर्ड को संधारित कर संस्था प्रधान से सत्यापित करवाकर रमसा कार्यालय को भिजवाना जरूरी होगा।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned