केईडीएल ने हेल्पलाइन पर दोगुनी की लाइनें, तकनीकी कर्मचारियों की संख्या बढ़ाई

- शीघ्र ही शहर में बनेगा नया ग्रिड स्टेशन, कंट्रोल रूम में शाम को बैठेंगे सहायक अभियंता

By: Mukesh

Updated: 07 Jul 2020, 01:03 AM IST

कोटा. शहर में बिजली आपूर्ति को लेकर आ रही शिकायतों को देखते हुए केईडीएल ने उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधा देने के लिए कई कदम उठाए हैं। कॉल सेंटर के हेल्पलाइन नम्बर पर लाइनों की संख्या दोगुनी कर दी गई है। इसके साथ ही विद्युत लाइनों में आए फाल्ट को ठीक करने का काम करने वाली टीमों की संख्या भी बढ़ा दी गई है। शहर में एक नया ग्रिड सब स्टेशन बनाने का भी फैसला किया गया है।

केईडीएल के टेक्निकल हैड अनोमित्रो ढाली ने बताया कि बिजली आपूर्ति में आ रहे व्यवधान को देखते हुए केईडीएल ने उपभोक्ताओं के हित में कुछ प्रभावी कदम उठाए हैं। हेल्पलाइन नम्बर 0141-3532000 पर लाइनों की संख्या 50 से बढ़ाकर 100 कर दी गई है। अब एक साथ 100 उपभोक्ता अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। शिकायत दर्ज कराने के दो घंटे बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होती है, तो उपभोक्ता 9116656575, 9116656576 व 9116656579 पर सम्पर्क कर सकते हैं। टोल फ्री नम्बर 18001021912 व 18002001912 की सेवाएं भी कार्यरत रहेगी। इसके अलावा उपभोक्ता वाट्सअप नम्बर 7230044002 व 9116107372 पर भी बिल पर दर्ज के-नम्बर के साथ अपनी शिकायतें दर्ज करा सकेंगे।

उन्होंने बताया कि शिकायतों पर प्रभावी कार्रवाई के लिए कंपनी ने शाम 7 बजे से कंट्रोल रूम में सहायक अभियन्ता स्तर के अधिकारी मौजूद रहेंगे।नया ग्रिड स्टेशन बनेगा, भूमि आवंटन कार्रवाई पूरी -टेक्निकल हैड ढाली ने बताया कि शिकायतों के निराकरण के लिए शाम को 22 से 25 तकनीकी टीमें फील्ड में मौजूद रहेगी। जिससे शिकायतें मिलते ही तत्काल कार्रवाई की जा सकेगी। केईडीएल ने स्टेशन क्षेत्र में 33 केवी का नया ग्रिड सब स्टेशन बनाने का फैसला किया है। इसके लिए एक साल पहले ही भूमि आवंटन के लिए जयपुर डिस्कॉम के माध्यम से नगर विकास न्यास में आवेदन किया जा चुका है। भूमि आवंटन की प्रक्रिया चल रही है।

जैसे ही भूमि का आवंटन होगाए केईडीएल वहां नया सब स्टेशन का काम शुरू कर देगी।लोगों की शिकायत पर होगी प्रभावी कार्रवाई -उन्होंने बताया कि कुछ जगहों पर ओवर लोडिंग की समस्या आ रही है। इसका प्रमुख कारण इन क्षेत्रों में बिजली का अवैध उपयोग है। ढाली ने कहा कि ईमानदार उपभोक्ता अगर लाइनों पर आंकड़ा डालकर बिजली के अवैध उपयोग रोकने में मदद करेंगे, तो उन्हें बेहतर विद्युत आपूर्ति की जा सकेगी। उन्होंने बताया कि शहर में विकास कार्यों के चलते कभी-कभी अण्डर ग्राउण्ड लाइनें क्षतिग्रस्त होने से बिजली आपूर्ति में व्यवधान आ जाता है। इसके लिए केईडीएल यूआईटी व नगर निगम के साथ समन्वय कर इसका समाधान निकालने का प्रयास कर रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned