scriptRailways decides disbandment of Railway Engineers Territorial Army | कोटा में अब रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट नहीं रहेगी | Patrika News

कोटा में अब रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट नहीं रहेगी

रेल मंत्रालय ने देश की पांच रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट को भंग करने का फैसला किया है। रेल मंत्रालय ने जमालपुर, झांसी, कोटा, आद्रा, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में स्थित छह रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट की मौजूदा कार्यात्मक स्थापना की समीक्षा के लिए समिति का गठन किया गया था।

कोटा

Published: June 07, 2022 12:00:58 am

कोटा. रेल मंत्रालय ने देश की पांच रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट को भंग करने का फैसला किया है। रेल मंत्रालय ने जमालपुर, झांसी, कोटा, आद्रा, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में स्थित छह रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट की मौजूदा कार्यात्मक स्थापना की समीक्षा के लिए समिति का गठन किया गया था। इस समिति ने रेलवे प्रादेशिक सेना रेजिमेंट की परिचालन आवश्यकताओं का पुनर्मूल्यांकन किया है। समिति की सिफारिशों के आधार पर और रक्षा मंत्रालय और प्रादेशिक सेना के महानिदेशालय्र की सहमति से रेल मंत्रालय ने रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट को भंग करने का फैसला किया है। इसके अनुसार कोटा, झांसी, आद्रा, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में स्थित पांच रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट का विघटन किया जाएगा। न्यू जलपाईगुड़ी-सिलीगुड़ी-न्यूमल-अलीपुरद्वार-रंगिया (361 किलोमीटर) मार्ग पर परिचालन भूमिका के लिए जमालपुर में स्थित एक रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट का सिलीगुड़ी कॉरिडोर के माध्यम से महत्वपूर्ण रेल लिंक को शामिल करने के लिए और रक्षा मंत्रालय की ओर से प्रस्तावित रंगिया तक बनाए रखा जाएगा। रेल मंत्रालय के पत्र 3 जून 2022 के जारी होने की तारीख से नौ महीने की अवधि के भीतर विघटन प्रक्रिया को महानिदेशालय प्रादेशिक सेना पूरा करेगी। कोटा में पिछले कई दशकों से रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट है। इसका इसका मुख्यालय रेलवे काॅलोनी में है।
INDIAN RAILWAY
ट्रेनों में लंबी प्रतीक्षा सूची, दरवाजे के पास खड़ा होकर सफर कर रहे यात्री
कोटा. गर्मी के सीजन में विद्यालयों की छुट्टियाें के चलते यात्री रेलगाडि़यों में कन्फर्म बर्थ मिलना मुश्किल हो रहा है। सामान्य श्रेणी के कोचों में भी यात्रीभार बढ़ गया है। इन दिनों कोटा मंडल से हर रोज औसत 1 लाख यात्री सफर कर रहे हैं। ज्यादातर ट्रेनों की पूरी एक्यूपेंसी का उपयोग हो रहा है। कई ट्रेनों में भीड़ के चलते पुरुष यात्री महिला कोचों में सफर कर रहे हैं। रेलवे सुरक्षा बल की ओर से ऐसे यात्रियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है। पिछले माह 3 से 31 मई 2022 तक देशभर में महिला कोचों की सफर करने पर 7 हजार पुरुष यात्रियों के खिलाफ रेलवे एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। कोटा जंक्शन पर महिला कोचों की निगरानी आरपीएफ कर रही है।बान्द्रा से बरौनी जाने वाली अवध एक्सप्रेस में किसी भी श्रेणी में बर्थ उपलब्ध नहीं हो रही है। आरक्षण केन्द्र पर आई आगरा निवासी मंजू ने बताया कि वह कई दिनों से कन्फर्म बर्थ के लिए प्रयास कर रही हैं, लेकिन तत्काल कोटे में भी बर्थ उपलब्ध नहीं हो रही है। अमृतसर से बान्द्रा जाने वाली स्वर्ण मंदिर मेल जब रविवार को कोटा जंक्शन पर पहुंची तो स्लीपर कोचाें में दरवाजे तक यात्री खड़े होकर सफर कर रहे थे। वहीं एसी कोचों में भी लंबी प्रतीक्षा सूची होने के कारण बहुत से यात्री शौचालय के पास खड़े हुए थे। मेवाड़ एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों में कन्फर्म बर्थ उपलब्ध नही है। वहीं उत्तर प्रदेश की ओर जाने वाली गाडि़यों में ज्यादा भीड़ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडाआज से प्रॉपर्टी टैक्स, होम लोन सहित कई अन्य नियमों में हुए बदलाव, जानिए आपके जेब में क्या पड़ेगा असरकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!LPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दामकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!Jagannath Rath Yatra 2022: देशभर में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की धूम, अमित शाह ने अहमदाबाद में की 'मंगल आरती'Kerala: सीपीआई एम के मुख्यालय पर बम से हमला, सीसीटीवी में कैद हुआ आरोपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.