उपखंड अधिकारी को जोड़े हाथ, बोले अब दुबारा ऐसा नहीं करेंगे

उपखंड अधिकारी को जोड़े हाथ, बोले अब दुबारा ऐसा नहीं करेंगे
उपखंड अधिकारी को जोड़े हाथ, बोले अब दुबारा ऐसा नहीं करेंगे

DILIP VANVANI | Publish: Oct, 12 2019 11:15:46 AM (IST) | Updated: Oct, 12 2019 11:15:47 AM (IST) Rawatbhata, Rajasthan, India

चामला पुलिया पर उफान आ गया था, जिससे 338 बच्चे भैंसरोडगढ़ में अटक गए थे। बच्चे भैंसरोडग़ढ़ के श्रीराम बाल विद्या मंदिर में ठहरे थे।

रावतभाटा. चामला पुलिया पर उफान आने से भैंसरोडगढ़ में अटके बच्चों के मामले में शुक्रवार को पांच स्कूलों के संस्था प्रधानों ने उपखंड अधिकारी को हाथ जोड़कर माफी मांगी। उपखंड अधिकारी को लिखकर दिया कि वे भविष्य में फिर से कोई गलती नहीं करेंगे, जिससे बच्चों का जीवन संकट में आ जाए।
श्रीराम बाल विद्यामंदिर में हिंदी दिवस पर 13 सितम्बर को प्रतियोगिता थी। इसमें चारभुजा, एकलिंगपुरा, रावतभाटा व महुपुरा के बच्चे शामिल थे। बच्चों के साथ इन विद्यालयों के 35 शिक्षकों का स्टॉफ भी था। राणा प्रताप सागर का गेट खुल गया था, जिससे चामला पुलिया पर उफान आ गया था, जिससे 338 बच्चे भैंसरोडगढ़ में अटक गए थे। बच्चे भैंसरोडग़ढ़ के श्रीराम बाल विद्या मंदिर में ठहरे थे। मामले को लेकर 16 सितंबर को गुजरात की छह बटालियन एनडीआरएफ टीम के 22, एसडीआरएफ टीम के 18 सहित 40 सदस्य पहुंचे थे। टीम के सदस्यों ने बच्चों को बाहर निकाला। फिर प्रशाासन ने उन्हें परिजनों को सुपुर्द किया। बच्चों के तीन दिन तक अटकने को लेकर उपखंड अधिकारी रामसुख गुर्जर ने गंभीरता से लिया था। उन्होंने छह स्कूलों के संस्था प्रधानों को नोटिस देकर उपस्थित होने को कहा था। इसको लेकर शुक्रवार को विद्या भारती अखिल भारती शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष राधेश्याम गुप्ता, श्रीराम बाल विद्या मन्दिर भैंसरोडगढ़ के प्रधानाध्यापक ओम प्रकाश, आदर्श विद्या मन्दिर वरिष्ठ विद्यालय मऊपुरा के प्रधानाचार्य मुकेश कुमार वैष्णव, आदर्श विद्या मन्दिर झालरबावड़ी के प्रधानाध्यापिक सीमा व्यास व आदर्श विद्या मन्दिर उच्च प्राथमिक विद्यालय एकलिंगपुर के दिलीप शर्मा उपखंड अधिकारी रामसुख गुर्जर के समक्ष उपस्थित हुए। आदर्श विद्या मन्दिर माध्यमिक विद्यालय के मधु सुदन शर्मा उपस्थित नहीं हुए।
लिखित में यह दिया
उन्होंने एसडीएम को लिखित में दिया कि वे भविष्य में इस प्रकार की गलती नहीं करेंगे। इस बार की गलती के लिए क्षमा प्रार्थी हैं। 13 सितंबर सुबह 8 बजे भैंसरोडगढ़ मऊपुरा कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। तब पुलिया पर वाहन निकल रहे थे। किसी ने पुलिया पर जाने से नहीं रोका। प्रशासन की ओर से मुनियादी कराई गई लेकिन मुनियादी की आवाज सुनाई नहीं दी। गेट खुलने के सायरन बज रहे थे लेकिन कितने गेट खुलेंगे। इसका पता नहीं लग रहा था। मऊपुरा व भैंसरोडगढ़ में सायरन की आवज सुनाई नहीं दी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned