जब बाघ और सांड आ गए आमने-सामने, फिर दिखा कुछ ऐसा नजारा, भाग खड़े हुए ग्रामीण

जब बाघ और सांड आ गए आमने-सामने, फिर दिखा कुछ ऐसा नजारा, भाग खड़े हुए ग्रामीण

Nitin Srivastva | Publish: Dec, 09 2018 08:58:42 AM (IST) | Updated: Dec, 09 2018 08:58:43 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाघ ने एक सांड पर हमला बोल दिया और उसे खींचते हुए गन्ने के खेत में ले गया...

लखीमपुर खीरी. महशपुर रेंज में एक और बाघ हिंसक हो गया। बाघ को बीती शाम देवीपुर बीट के ग्राम मुल्लापुर के खेत में घूमता देखा गया था। उसी समय वहां पहुंचे एक सांड पर बाघ ने हमला बोल दिया और उसे खींचते हुए गन्ने के खेत में ले गया। यह देख खेतो में काम कर रहे ग्रामीणों में हड़कंप मच गया। ग्रामीणों ने तत्काल इसकी सूचना वन विभाग को दी। सूचना पाते ही वनकर्मी आनन-फानन में मौके पर पहुंचे। वन कर्मी रामप्रसाद, राधेलाल, शिव गोपाल और एचटीपीएफ के जवानो ने घटना स्थल का मुयना कर हमले की पुष्टि करते हुए अपने उच्चधिकारियों को इसकी पूरी जानकारी दी।

 

बाघ से ग्रामीणों में दहशत

इतना ही नही इसी बीट के ग्राम परसेहरा में गाय पर हमला करने वाला बाघ आज भी इसी क्षेत्र में चहल कदमी कर रहा है। जब ग्रामीणों ने बाघ को देख उसे भागने का प्रयास किया। तो उसके दहाड़ की आवाज सुन ग्रामीणों में काफी दहशत व्याप्त फैल गई। इस समय गन्ने की छिलाई चल रही है। इसलिये ग्रामीणों का खेतो पर जाना उनकी मजबूरी भी है। वहीं वनकर्मियों ने ग्रामीणों को सतर्क कराते हुए, अकेले नही बल्कि समूह में खेतों पर जाने की चेतावनी दी और रात में घरों से न निकलने की भी बात कही।

 

सर्दी में बाहर आ जाते हैं बाघ

जिन रेजो में बाघ की चहल कदमी रहती है। उन क्षेत्रों के ग्रामीण अधिकतर खेती किसानी पर ही निर्भर रहते हैं। ऐसे में बाघ की दहशत के चलते वह अपना और अपने परिवार का जीवन यापन कैसे करेंगे। वहीं विभागीय अधिकारियों का कहना है कि सर्दी आते ही बाघ जगलों से निकल कर बाहर आ जाते हैं। जहां उन्हें ताजी धूप मिल सके। इसी के साथ मानव और वन्यजीवो की घटनाये सामने आती हैं।

 

Ad Block is Banned