आईटीसी से फरवरी 2017 में अलग हो जाएंगे देवेश्वर

आईटीसी से फरवरी 2017 में अलग हो जाएंगे देवेश्वर
Deveshwar

Amanpreet Kaur | Updated: 22 Jun 2016, 11:51:00 AM (IST) कॉर्पोरेट

देवेश्वर ने कार्यकाल खत्म होने के बाद कुछ समय तक कंपनी के नए मैनेजमेंट को गाइड करने की बात मान ली है

नई दिल्ली। आईटीसी के चेयरमैन योगेश्वर चंद्र देवेश्वर जल्द ही कंपनी का साथ छोडऩे वाले हैं। देवेश्वर ने चेयरमैन पद छोडऩे का फैसला कर लिया है। देवेश्वर का कार्यकाल फरवरी 2017 को खत्म होने जा रहा है, इसके बाद वे कंपनी से अलग हो जाएंगे। हालांकि इसके बाद भी देवेश्वर कंपनी के नॉन-एग्जीक्यूटिव चेयरमैन के पद पर बने रहेंगे, लेकिन केवल अगले तीन साल तक।

आईटीसी के अनुसार अगले महीने होने वाली कंपनी की एजीएम देवेश्वर की बतौर चेयरमैन आखिरी एजीएम होगी। कंपनी के मुताबिक देवेश्वर ने कार्यकाल खत्म होने के बाद कुछ समय तक कंपनी के नए मैनेजमेंट को गाइड करने की बात मान ली है।

69 वर्षीय देवेश्वर ने 1968 में आईटीसी जॉइन की थी। वे अब तक के सबसे लंबे समय तक कार्यरत चेयरमैन रहे हैं। उन्होंने जनवरी 1996 में एग्जीक्यूटिव चेयरमैन का पद संभाला था। जुलाई 2011 में एजीएम में उन्हें दोबारा से डायरेक्टर और पूर्णकालिक डायरेक्टर के साथ ही 5 साल के चेयरमैन बनाने की घोषणा की गई थी।

देवेश्वर ने आईटीसी को निकट चुनौतियों और विविधिकरण की समस्याओं से उबारने में बड़ा योगदान दिया है। जब देवेश्वर ने चेयरमैनशिप का पद संभला तब कंपनी का रेवेन्यू 5200 करोड़ रुपए से कम और प्रॉफिट बिना टैक्स 452 करोड़ रुपए था, लेकिन मौजूदा समय में रेवेन्यू इससे 10 गुना अधिक करीब 51582 कराड़ रुपए और प्रॉफिट बिफोर टैक्स में 33 गुना की वृद्धि हुई।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned