बकाया राशि न देने पर एरिक्सन ने अनिल अंबानी पर ठोका मुकदमा

बकाया राशि न देने पर एरिक्सन ने अनिल अंबानी पर ठोका मुकदमा

| Updated: 02 Oct 2018, 03:30:03 PM (IST) कॉर्पोरेट

आरकॉम को 30 सितंबर तक एरिक्सन को 550 करोड़ रुपए का भुगतान करना था।

नई दिल्ली। रिलायंस कम्यूनिकेशन से बकाया राशि न मिलने पर स्वीडन की टेलीकॉम उपकरण निर्माता कंपनी एरिक्सन ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। समझौते के तहत 30 सितंबर तक 550 करोड़ नहीं देने पर एरिक्सन ने सुप्रीम कोर्ट में अनिल अंबानी के खिलाफ अवमानना याचिका दाखिल की है। उधर, रिलायंस कम्यूनिकेशन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर बकाया भुगतान के लिए 60 दिन का समय और मांगा है। हालांकि, एरिक्शन ने रिलायंस कम्यूनिकेशन की इस मांग को खारिज कर दिया है। यह जानकारी इस मामले से जुड़ लोगों ने दी है। अब इस मामले की सुनवाई 4 अक्टूबर को होगी। इस मामले से जुड़े लोगों का कहना है कि एरिक्सन एक बार फिर एनसीएलटी में याचिका दायर कर आरकॉम को नीलाम करने की मांग करेगी।

 

एनसीएलटी में चल रहा है केस

दरअसल आरकॉम ने स्वीडन की कंपनी एरिक्‍सन के साथ 2014 देशभर में टॉवर के मेंटीनेंस की 7 साल के लिए डील की थी। घटते रेवेन्‍यू के चलते एरिक्‍सन का आरकॉम पर करीब 978 करोड़ रुपए बकाया है, जो अब बढ़कर 1,600 करोड़ रुपए हो गया है। इसलिए ही आरकॉम के खिलाफ बैंकरप्सी के लिए स्वीडन के टैलीकॉम इक्विपमैंट मेकर एरिक्सन ने एनसीएलटी का दरवाजा खटखटाया था। इसके खिलाफ आरकॉम सुप्रीम कोर्ट चली गई थी और अपनी संपत्तियां बेचने की अनुमति मांगी थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एनसीएलटी ने आरकॉम को 30 सितंबर तक समझौते के तहत 550 करोड़ रुपए का भुगतान करने को कहा था। साथ ही निर्देश दिया था कि यदि आरकॉम तय समय तक भुगतान करने असमर्थ रहती है तो उसकी ओर से किए गए सभी सौदे रद्द हो जाएंगे।

45,000 करोड़ रुपए के कर्ज से जूझ रही है आरकॉम

कभी देश की दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कम्पनी रही आरकॉम इस समय बुरी तरह से कर्ज के संकट से जूझ रही है। इस पर करीब 45,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। जियो की मार्कीट में एंट्री के बाद शुरू हुए कड़े कम्पीटीशन के सामने कम्पनी टिक नहीं पाई और इसे 2017 के आखिरी तक अपना वायरलैस बिजनैस बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा है। आरकॉम अपने वायरलैस एसेट्स को मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस जियो को करीब 18000 करोड़ रुपए में बेच चुकी है। इसके अलावा आरकॉम अपनी अन्य संपत्तियों को भी बेच रही है। लेकिन एरिक्सन का बकाया भुगतान नहीं करने पर यह सभी सौदे लटक सकते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned