फेसबुक पर गलत तरीके से Biometric Data Collection के आरोप में लग सकता है 500 अरब डॉलर जुर्माना

  • California स्थित Redwood City की Court में सोमवार को यह मुकदमा दर्ज किया गया
  • Instagram पर आरोप, Data Collection के लिए Photo Tagging Tool किया गया इस्तेमाल

By: Saurabh Sharma

Updated: 13 Aug 2020, 09:14 PM IST

नई दिल्ली। फेसबुक ( Facebook ) पर अमरीका में बायोमेट्रिक डेटा एकत्रित ( Biometric Data Collection ) करने के आरोप में 500 अरब डॉलर तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। अमरीका में फेसबुक पर एक मुकदमा दायर किया गया है, जिसमें दावा किया गया है कि फेसबुक की सहायक कंपनी इंस्टाग्राम ( Instagram ) द्वारा यूजर्स की इजाजत के बिना उनका बायोमेट्रिक डेटा एकत्र किया गया है। विदेशी मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार कैलिफोर्निया स्थित रेडवुड सिटी की अदालत में सोमवार को यह मुकदमा दर्ज किया गया है।

इंस्टाग्राम पर लगा है आरोप
इंस्टाराम पर आरोप है कि उसने फोटो-टैगिंग टूल के जरिए लोगों की पहचान करने के लिए फेशियल रिकॉग्निशन तकनीक का इस्तेमाल किया है। इंस्टाग्राम ने भी स्वीकार किया है कि कंपनी इस फीचर का इस्तेमाल कर रही थी, लेकिन कंपनी का कहना है कि उन्होंने डेटा को विशेष सुरक्षा प्रदान की है और यूजर्स की इजाजत के बाद ही कंपनी ने उनसे इस तरह का डेटा लिया है।

10 करोड़ का डाटा एकत्र किया गया
दायर किए गए इस मुकदमे में इंस्टाग्राम पर आरोप लगाया गया है कि कंपनी स्वचालित (ऑटोमैटिकली) लोगों के चेहरे को स्कैन करती है। इस दौरान उन लोगों के चेहरे भी स्कैन किए गए हैं, जो किसी दूसरे के इंस्टाग्राम अकाउंट में दिख रहे थे। मुकदमे में कहा गया है कि ऐसे में इंस्टाग्राम के पास उन लोगों का डेटा भी मौजूद है, जो कंपनी की प्लैटफॉर्म टम्र्स को नहीं मानते। इस दौरान 10 करोड़ लोगों के डेटा को इक_ा किया गया, स्टोर किया गया और मुनाफा कमाने के लिए इनका इस्तेमाल किया गया है।

फेसबुक ने कहा, मुकदमा निराधार
विदेशी मीडिया के अनुसार को दिए अपने एक बयान में फेसबुक के प्रवक्ता ने बताया कि मुकदमा निराधार है और इंस्टाग्राम फेसबुक पर दी जा रही फेस रिकग्निशन सेवाओं का उपयोग नहीं करता है। यह पहली बार नहीं है जब फेसबुक पर फेशियल रिकॉग्निशन के जरिए डेटा इक_ा करने को लेकर मुकदमा दायर किया गया है। पिछले महीने फेसबुक ने एक मुकदमे को निपटाने के लिए 65 करोड़ डॉलर का भुगतान किया था। इस मामले में कंपनी पर आरोप था कि उसने अमेरिकी स्टेट इलिनोइस के डाटा संग्रह नियमों का उल्लंघन किया है।,द्य

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned