अनिल अंबानी को एलएंडटी फाइनेंस, एडिलवीस समूह की वजह से हुआ 13 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

अनिल अंबानी को एलएंडटी फाइनेंस, एडिलवीस समूह की वजह से हुआ 13 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

Saurabh Sharma | Publish: Feb, 09 2019 07:28:22 AM (IST) | Updated: Feb, 09 2019 08:13:25 AM (IST) कॉर्पोरेट

रिलायंस समूह ने शुक्रवार को एलएंडटी फाइनेंस और एडिलवीस समूह की कुछ कंपनियों द्वारा इस साल चार फरवरी से सात फरवरी के बीच रिलायंस समूह के गिरवी रखे गए शेयरों की खुले बाजार में बिक्री को 'अवैध और हद पार करनेवाला' बताया है।

नर्इ दिल्ली। रिलायंस समूह ने शुक्रवार को एलएंडटी फाइनेंस और एडिलवीस समूह की कुछ कंपनियों द्वारा इस साल चार फरवरी से सात फरवरी के बीच रिलायंस समूह के गिरवी रखे गए शेयरों की खुले बाजार में बिक्री को 'अवैध और हद पार करनेवाला' बताया है। यहां जारी एक बयान में रिलायंस कैपिटल ने कहा, "कुछेक एनबीएफसीज, असल में एलएंडटी फाइनेंस और एडिलवीस समूह की कुछ कंपनियों ने रिलायंस समूह के गिरवी रखे सूचीबद्ध शेयरों की चार फरवरी से सात फरवरी के बीच खुले बाजार में बिक्री की, जिनका मूल्य करीब 400 करोड़ रुपए था।"

रिलायंस समूह ने कहा, "कर्ज की सुरक्षा के लिए गिरवी रखे गए शेयरों को बेचने के अधिकार का इस्तेमाल अवैध और हद से अधिक था, क्योंकि कर्ज के दस्तावेजों के हिसाब से यह जरूरत से ज्यादा था।" बयान में कहा गया है, "उपरोक्त दो समूहों द्वारा की गई यह कार्रवाई अवैध, मंशा से प्रेरित और पूरी तरह से अनुचित थी। इससे इन चार दिनों में कंपनी के बाजार पूंजीकरण में 13,000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ, जोकि करीब 55 फीसदी है। इससे 72 लाख से अधिक संस्थागत और खुदरा शेयरधारकों का नुकसान हुआ और सभी हितधारकों का नुकसान हुआ।"

अापको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से आरकाॅम समेत रिलायंस कैपिटल आैर बाकी कंपनियों को शेयर बाजार में बड़ा नुकसान हुआ है। बुधवार तक कर्इ कंपनियों के शेयर्स काफी नीचे आ चुके हैं। शुक्रवार को रिलायंस की कंपनियों के शेयर्स में एक बार फिर इजाफा देखने को मिला। लेकिन वो समूह आैर निवेशकों के लिए रिकवरी मात्र ही हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned