Coronavirus Lockdown में Uber 3700 Employees की करने जा रहा है छंटनी

  • कोरोना वायरस के असर की वजह से अमरीकी कंपनी कर रही है छंटनी
  • राइड्स सेगमेंट में कम ट्रिप वॉल्यूम की वजह बनी कर्मचारियों की छंटनी

By: Saurabh Sharma

Updated: 07 May 2020, 12:51 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस लॉकडाउन ( Coronavirus Lockdown ) का असर दुनिया की तमाम बड़ी कंपनियों में देखने को मिल रहा है। कारोबार ना होने और लगातार नुकसान होने के कारण कर्मचारियों की छंटनी का दौर शुरू हो गया है। इसी के तहत अब अमरीकी कंपनियों ने भी अपने यहां से कर्मचारियों की छंटनी करनी शुरू कर दी है। अमरीकी कंपनी उबर टेक्नोलॉजी इंक ( Uber ) ने कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण कुल 3700 फुलटाइम कर्मचारियों की छंटनी ( Uber Lay Off Employees ) करने रहा है। आइए आपको भी बताते हैं कि कंपनी की ओर से किस तरह की जानकारी दी है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: यूपी में वैट बढऩे से कीमतों में इजाफा, जानिए आपके शहर में कितने हुए दाम

3700 फुलटाइम कर्मचारियों की छंटनी
उबर टेक्नोलॉजी इंक ने यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन में दायर रेगुलेटरी फाइलिंग के हवाले से कहा कि कोरोना वायरस महामारी से उत्पन्न आर्थिक चुनौतियों व अनिश्चितता और व्यवसाय पर इसके प्रभाव के चलते कंपनी ने अपने परिचालन खर्च को कम करने की योजना बनाई है। फाइलिंग में कहा गया है कि अपने राइड्स सेगमेंट में कम ट्रिप वॉल्यूम और कंपनी के मौजूदा हायरिंग फ्रीज के कारण उबर अपने कस्टमर सपोर्ट और रिक्रुटर्स टीम को कम कर रहा है। इसके लिए कुल 3700 फुलटाइम कर्मचारियों की छंटनी होगी।

यह भी पढ़ेंः- लगातार दो दिन सोना सस्ता रहने के बाद जानिए कितनी हुर्इ सोने की कीमत, आज क्या हो सकती है कीमतें?

कंपनी सीईओ ने कर्मचारियों को किया ई-मेल
कर्मचारियों को लिखे एक पत्र में कंपनी के सीईओ दारा खोसरोशाही ने कहा कि हमारी राइड ट्रिप वॉल्यूम्स में काफी गिरावट आने के साथ ही कम्युनिकेशन ऑपरेशन्स सहित इन-पर्सन सपोर्ट की हमारी जरूरत काफी कम हो गई है और अब रिक्रुटर्स के लिए पर्याप्त काम नहीं है। इसलिए कर्मचारियों को कम करना उनकी मजबूरी हैै। आपको बता दें कि भारत में भी कई जगहों में लॉकडाउन है। देश में सिर्फ ऑरेंज और ग्रीन जोन में कैब चलाने की अनुमति दी गई है। भारत में सिर्फ ऐसे 25 शहरों में अपनी कैब सर्विस शुरू की गई है। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों में भारत समेत पूरी दुनिया में अभी थोड़ा वक्त लग सकता है।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned