सपा के बाद अब भाजपा की नजर बसपा पर, टूट सकते हैं छह सांसद

सपा के बाद अब भाजपा की नजर बसपा पर, टूट सकते हैं छह सांसद
mayawati

Akansha Singh | Updated: 21 Aug 2019, 01:21:33 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

-उप्र में दस सीटों पर जीते हैं बसपा के सांसद
-मायावती की मनोबल को तोडऩे के लिए भाजपा चल सकती है दांव
-पश्चिमी उप्र के एक सांसद को सौंपा गया है जिम्मा

लखनऊ. बसपा प्रमुख मायावती की मुश्किलें बढऩे वाली हैं। उप्र में उपचुनाव के लिए 12 सीटों पर अपने प्रत्याशी अकेले उतारने की घोषणा के बाद भारतीय जनता पार्टी इस नीति पर काम कर रही है कि कैसे बसपा का मनोबल तोड़ा जाए। पिछले लोकसभा चुनाव में एक भी सीट न जीत पाने वाली मायावती इस बार लोकसभा में सपा के साथ गठबंधन कर अपने दस सांसद जिता लिए हैं। इससे उनका मनोबल बढ़ा हुआ है। शायद यही वजह है मायावती ने सपा से अपने गठबंधन को तोड़ कर अलग चुनाव लडऩे की घोषणा की है। बसपा पहली बार उप चुनाव में उतरने जा रही है। यूपी में 12 सीटों पर उप चुनाव होने हैं।


सपा के बाद बसपा में तोडफ़ोड़ की कवायद
भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा में पूर्ण बहुमत के बाद राज्यसभा में बहुमत पाने के लिए सबसे पहले तेलगू देशम पार्टी के राज्यसभा सांसदों को तोडऩे का काम किया। इसके बाद उसकी नजर सपा सांसदों पर रही। सपा के तीन राज्यसभा सांसद भाजपा ने तोड़ लिए। उसमें से नीरज शेखर भाजपा से सांसद चुने भी जा चुके हैं। भाजपा की नजर अब उप्र में प्रमुख विपक्षी दल बसपा पर है।


एक हिंदी दैनिक में छपी खबर में उच्च सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि भाजपा अध्यक्ष और पार्टी के चाणक्य के निर्देश पर बसपा में भी संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। माना जा रहा है कि बसपा में तोडफ़ोड़ की कवायद की जिम्मेदारी पश्चिमी उप्र के एक सांसद को सौंपी गयी है। यह सांसद बसपा सुप्रीमो से नाखुश चल रहे हैं। ओबीसी से आने वाले इस सांसद को जिम्मा दिया गया है कि वह बसपा के कम से कम छह सासंदों को तोडकऱ भाजपा में शामिल कराएं। 10 मेंं से 6 सांसदों के टूट जाने पर पार्टी में दल बदल का कानून भी नहीं लागू होगा। भाजपा का मानना है कि मायावती और उनकी पार्टी का मनोबल तोडऩे के लिए बसपा में भी टूट जरूरी है। वैसे भी सांसदों को लग रहा है कि अगले पांच साल तक तो उन्हें कोई बड़ा लाभ बसपा में रहते हुए नहीं मिलने वाला। इसलिए वह भी दल बदल को तैयार हो सकते हैं। बसपा से जीतने वाले सांसदों में से तीन तो मुस्लिम हैं। इन्हें बसपा से दलबदल करने की उम्मीद बेहद कम है। बाकी बचे 7 सांसदों में से कम से कम छह को तोडऩे की कवायद की जा रही है। हालांकि मायावती को इसकी भनक लग चुकी है और वह अपने सांसदों पर कड़ी नजर रख रही हैं।


2019 में उप्र से जीते बसपा के सांसद
1.अफजाल अंसारी-गाजीपुर
2.कुंवर दानिश अली-अमरोहा
3.हाजी फजलुर्रहमान-सहारनपुर
4.संगीता आजाद-लालगंज
5.गिरीश चंद-नगीना
6.मलूक नागर-बिजनौर
7.राम शिरोमणि-श्रावस्ती
8.श्याम सिंह यादव-जौनपुर
9.रितेश पांडेय-अंबेडकरनगर
10.अतुल कुमार-घोसी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned