बंदरों को भी नहीं पकड़ पा रही है भाजपा सरकार-अखिलेष

बंदरों को भी नहीं पकड़ पा रही है भाजपा सरकार-अखिलेष

Anil Ankur | Publish: Sep, 04 2018 09:25:25 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

अखिलेष ने दी राय- मंत्र पढ़कर पकड़ें बंदर


लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेष यादव ने आज यहां कहा कि कैलाष- मानसरोवर भारत की धार्मिक भावना से जुड़े हैं। उनका पौराणिक महत्व है। हर वर्ष बड़ी संख्या में श्रद्धालु वहां तीर्थ यात्रा पर जाते हैं। भारत सरकार को चीन से कैलाष-मानसरोवर को भारत को सौंपने की मांग करनी चाहिए।

सपा के पुराने नेताओं की मौजूदगी में हुआ कार्यक्रम
यादव पार्टी मुख्यालय, लखनऊ स्थित डाॅ0 लोहिया सभागार में एकत्र जनसमूह को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर बिजनौर, गोरखपुर, गोंडा, लखीमपुर-खीरी के कार्यकर्ताओं के अतिरिक्त अहमद हसन, माता प्रसाद पाण्डेय, राजेन्द्र चैधरी, नरेष उत्तम पटेल, एस.आर.एस. यादव तथा मध्य प्रदेष के नेता डाॅ0 सुनीलम मौजूद रहे।

लोकसभा चुनाव में जनता भाजपा के वादों में नहीं भटकेगी
यादव ने कहा कि भाजपा की नीतियों से जनता बेहद नाराज है। उपचुनावों के परिणामों से यह साबित हो चुका है। इस बार लोकसभा के चुनावों में भाजपा को भटकाने, बहकाने का मौका नहीं मिलेगा। चुनाव किसान, रोजगार, सड़क और बिजली आदि जनहित के मुद्दों पर होगा। भाजपा को चुनाव को मैनेज नहीं करने दिया जाएगा। जनता वोट डालकर बता देगी कि वह किसकी सरकार बनाएगी।

बेकारी की स्थिति विस्फोटक
उन्होंने कहा कि बेकारी की स्थिति विस्फोटक है। कानून व्यवस्था ध्वस्त है। इलाहाबाद में रिटायर्ड दारोगा की हत्या के लिए सरकार जिम्मेदार है। एनकाउण्टर से सरकार डराना चाहती है। उसको लेकर सरकार कठघरे में है। ट्रेनों में लूट-डकैती पर सरकार सोती रही है। जेलों में हत्याएं हो रही है। निर्दोषों को झूठे केसो में फंसाया जा रहा है।

बंदरो को मंत्र से पढ़कर पकड़ेगी भाजपा सरकार
अखिलेष यादव ने कहा कि भाजपा सरकार के आंख-कान बंद है। नौकरी मांगने पर नौजवानों पर लाठियां बरसाई जाती है। सरकार नौजवानों को नौकरी नहीं देना चाहती है। भाजपा सरकार बंदरों तक को पकड़ नहीं पा रही है शायद अब मंत्र पढ़कर बंदर पकड़े जाएंगे। मुख्यमंत्री योग्य होंगे तभी तो योग्य लोगों को नौकरी दे सकेंगे। उन्होंने कहा इस सरकार ने किसानों को भी धोखा दिया है। न तो उन्हें फसलों की लाभप्रद कीमत मिली और नहीं उनका कर्ज माफ हुआ। स्मार्ट सिटी बनाना तो छोड़िए, पहले शहरों को प्रदूषण मुक्त करने के लिए गोबर ही हटाकर सरकार दिखाये और यातायात व्यवस्था बिना जाम के सुचारू बनाए।

Ad Block is Banned