बड़ी खबर: अखिलेश यादव ने कई बड़े नेताओं को पार्टी से किया निलंबित, कई और होंगे बाहर

बड़ी खबर: अखिलेश यादव ने कई बड़े नेताओं को पार्टी से किया निलंबित, कई और होंगे बाहर
Akhilesh Yadav

Shatrudhan Gupta | Updated: 10 Dec 2017, 08:00:53 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

यूपी नगर निकाय चुनाव में मिली हार पर समाजवादी पार्टी (सपा) में अब दोषियों पर कार्रवाई शुरू हो गई है।

लखनऊ. यूपी नगर निकाय चुनाव में मिली हार पर समाजवादी पार्टी (सपा) में अब दोषियों पर कार्रवाई शुरू हो गई है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव खुद उन नेताओं पर कार्रवाई कर रहे हैं, जिन्होंने पार्टी प्रत्याशियों को हराने का काम किया। सपा के के गढ़ माने जाने वाले फिरोजाबाद, इटावा और कन्नौज में पार्टी की करारी हार पर अखिलेश यादव ने कार्रवाई शुरू कर दिया है। रविवार को अखिलेश यादव की अनुमति से पार्टी विरोधी कार्यों में लिप्त होने और अनुशासनहीन आचरण के लिए फिरोजाबाद के पूर्व विधायक अजीम भाई को पार्टी से निलंबित कर दिया गया। साथ ही इटावा के पूर्व जिलाध्यक्ष राजीव यादव पर भी निलंबन की कार्रवाई पार्टी द्वारा की गई।

कई अन्य नेताओं पर भी हो सकती है कार्रवाई

इसके अलावा पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कन्नौज जिला कार्यकारिणी अध्यक्ष मजहारूलहक उर्फ मुन्ना दरोगा और लखीमपुर जिला कार्यकारिणी की अध्यक्ष अनुराग पटेल सहित उनके विधानसभा क्षेत्रों की कार्यकारिणी, जिला प्रकोष्ठों की कार्यकारिणी को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है। अखिलेश यादव द्वारा की गई इस कड़ी कार्रवाई के बाद नेताओं में हड़कंप मचा हुआ है। सूत्रों की मानें तो अभी और कई जिलों के नेताओं पर कार्रवाई हो सकती है। इसकी सूची तैयार की जा रही है। सूत्रों की मानें तो नगर निकाय चुनाव में मिली करारी हार से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव काफी नाराज हैं। वह उन सभी नेताओं पर कार्रवाई के मुड में हैं, जिन्होंने पार्टी प्रत्याशियों के विरुद्ध जाकर चुनाव लड़ा और दूसरे प्रत्याशियों का समर्थन किया।

खुद के गढ़ में ही हार का देखना पड़ा मुंह

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश नगर निकाय चुनाव में इस बार समाजवादी पार्टी का गढ़ कहे जाने वाले इटावा और उसके आस-पास के इलाकों में पार्टी को मुंह की खानी पड़ी है। इटावा में तीन नगर पालिका और तीन नगर पंचायतों में से महज दो पर समाजवादी पार्टी को जीत मिली है। इसके अलावा जसवंत नगर नगरपालिका से चेयरमैन का चुनाव शिवपाल सिंह यादव के कऱीबी सुनील जॉली ने जीता। सुनील जॉली को समाजवादी पार्टी ने टिकट नहीं दिया था, इसलिए उन्होंने निर्दलीय ही चुनाव लड़ा और जीत। बतातें चलें कि जॉली को शिवपाल का समर्थन प्राप्त था। इसके अलावा पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के गढ़ कहे जाने वाले कन्नौज से भी पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा। फिरोजाबाद मेयर चुनाव में तो एआईएमआईएम ने सपा से कहीं बेहतर प्रदर्शन किया, जिससे पार्टी अध्यक्ष नाराज हैं। मालूम हो कि प्रदेश के 16 नगर निगमों से एक भी समाजवादी पार्टी सीट नहीं जीत सकी। जबकि, उसने सभी 16 नगर निगमों में प्रत्याशी उतारे थे। वहीं, सपा ने प्रदेश की नगर पालिका की 48 सीटें और नगर पंचायत की सिर्फ 83 सीटों पर जीत दर्ज कराया।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned