मायावती को बड़ा झटका, भीम आर्मी ने दी बड़ी चुनौती, स्टूडेंट्स विंग लॉन्च की

मायावती को बड़ा झटका,  भीम आर्मी ने दी बड़ी चुनौती, स्टूडेंट्स विंग लॉन्च की

Ruchi Sharma | Updated: 20 Aug 2019, 12:08:15 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

-विश्वविद्यालयों के छात्र संघ चुनाव में भाग लेगा बीएएसएफ

 

लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की अध्यक्ष मायावती (Mayawati) को भीम आर्मी (bheem army) के संस्थापक चंद्र शेखर आजाद (Chandra Shekhar Azad) ने बड़ी चुनौती दे दी है। उन्होंने भीम आर्मी स्टूडेंट्स फेडरेशन (Student Membership Campaign ) यानि (बीएएसएफ) को लॉन्च कर दिया है। बीएएसएफ जल्द ही देश भर के विश्वविद्यालयों में छात्र संघ का चुनाव लड़ेगी। माना जा रहा है कि बीएएसएफ देश का पहला स्टूडेंट्स दलित संगठन है। इसके पहले दलितों का अगल से कोई स्टूडेंट्स संगठन नहीं था। मायावती ने अपने भतीजे आकाश आंनद (Akash Anand) को भले ही राजनीति में उतार कर युवाओं को संदेश देने की कोशिश की हो लेकिन आंनद बसपा (BSP) में ही सक्रिय है उन्होंने दलित युवाओं के लिए कोई पहल नहीं की। बसपा में युवाओं को जोड़ने के लिए कोई संगठन भी नहीं है, लेकिन मायावती के नक्शे कदम पर चलते हुए चंद्र शेखर आजाद ने उत्तर प्रदेश में पहला दलित छात्र संगठन का गठन कर दिया है। बीएएसएफ एससी (SC) एसटी (ST) और ओबीसी (OBC) छात्रों को संगठित करेगा और उन्हे विश्वविद्यालयों में छात्र राजनीति के जरिए अपनी पहचान बनाने के लिए पहल करेगा। उत्तर प्रदेश में बीएएसएफ के संगठन को रविवार को विधिवत लॉन्च कर दिया गया। दस हजार से अधिक छात्रों ने इस दिन बीएएसएफ की सदस्यता ग्रहण की।

चंद्र शेखर आजाद का कहना है कि वह जल्द ही अन्य प्रदेशों में बीएएसएफ ईकाई का गठन करेंगे। महाराष्ट्र चैप्टर का 28 अगस्त को पुणे में उद्घाटन होगा। राजस्थान यूनिट का सितंबर में गठन प्रस्तावित है। इसके साथ ही बिहार, मध्यप्रदेश, पंजाब अौर हरियाणा में दलित छात्र संगठन ईकाई को सक्रिय करने की तैयारी है।

इन विश्वविद्दालयों में बीएएसएफ लड़ेगा चुनाव


इस साल बनारस विद्यापीठ पटना यूनिवर्सिटी, मगध यूनिवर्सिटी और जयपुर यूनिवर्सिटी समेत अन्य विश्वविद्यालयों में छात्र संगठन चुनाव होने हैं। बीएएसएफ इन सभी जगहों पर छात्र संघ के लिए अपने प्रत्याशी उतारेगा। भीम आर्मी के इस कदम से बसपा समर्थकों में खलबली मच गई है। बसपा नेताअों का कहना हैं कि यदि यूनिवर्सिटी अौर महा विद्यालयों में दलितों अौर अोबीसी छात्रों को बीएएसएफ के तहत एक जुट कर लिया गया तो यह बसपा के संस्थापक काशी राम के बामसेफ संगठन की तर्ज पर तेजी से उभरेगा।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned