टिकट न मिलने से नाराज योगी सरकार से इस्तीफा देने को तैयार

टिकट न मिलने से नाराज योगी सरकार से इस्तीफा देने को तैयार

Anil Ankur | Publish: Apr, 14 2019 12:07:25 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

भाजपा नेताओं ने भी राजभर को मनाना किया शुरू

लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी और उसकी सहयोगी पार्टियों के बीच खींचतान का दौर लगातार जारी है। अति पिछड़ी जातियों की राजनीति करने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के मुखिया ओम प्रकाश राजभर लोकसभा चुनाव में सीट को लेकर भाजपा पर दबाव बनाने में लगे हुए हैं। इसी क्रम में सूत्रों से मिली रही जानकारी के अनुसार लोकसभा चुनाव में टिकट को लेकर बात न बनने से नाराज ओम प्रकाश राजभर बहुत जल्द उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफा देने वाले हैं। उन्होंने इस्तीफे को लेकर पार्टी नेताओं से मंथन के बाद अपना मन बना लिया है। वह किसी भी वक्त योगी मंत्रिमंडल से अपने इस्तीफे का ऐलान कर सकते हैं। वहीं जानकारी के मुताबिक ओम प्रकाश राजभर घोसी लोकसभ क्षेत्र से चुनाव भी लड़ सकते हैं। दूसरी ओर भाजपा नेताओं ने भी नाराज राजभर को मनाना शुरू कर दिया है। वे इस बात पर दबाव डाल रहे हैं कि सरकार से इस्तीफा न दें बल्कि पार्टी के साथ खुलकर चुनाव में सहयोग दें। वहीं राजभर अपने स्थान पर अपने बेटे को टिकट दिलाना चाह रहे हैं।


पांच सीटें मांग रहे राजभर

ओम प्रकाश राजभर भाजपा से पहले पांच सीटें (लालगंज, मछलीशहर, घोसी, अंबेडकरनगर और चंदौली सीट) मांग रहे थे, लेकिन भाजपा की ओर से उन्हें किसी तरह का कोई आश्वासन नहीं मिला। इसी को लेकर ओमप्रकाश लगातार बगावती तेवर अपनाए हुए हैं। ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का पूर्वांचल की 36 विधानसभा सीटों पर पर अच्छा खासा प्रभाव है। जिसका फायदा बीेजेपी लोकसभा में उटाना चाहती है। इसी को देखते हुए राजभर की नाराजगी को दूर करने के लिए बीजेपी उन्हें चुनाव लडऩे के लिए एक सीट देने का मन बना रही है। लेकिन अपने मनमुताबिक सीटें न मिलने पर राजभर ने भाजपा से अलग होने तक की चेतावनी दे डाली। वहीं सुभासपा के वोटबैंक को देखते हुए बीजेपी भी असमंजस में है और अभी कोई स्थिति स्पष्ट नहीं हो पा रही है।


राजभर को लपकने की कोशिश में सपा-बसपा

वहीं दूसरी तरफ सपा-बसपा के नेता राजभर के भाजपा से दूर होते ही उन्हें लपकने की फिराक में हैं। सपा-बसपा गठबंधन राजभर को अपने साथ जोड़कर उनके हिस्से में वह पार्टी देना चाहती है जहां राजभर वोटों की संख्या ज्यादा हैं। सूत्रों के मुताबिक सपा-बसपा के नेताओं की सुभासपा नेताओं से बातचीत भी जारी है और जल्द ही दोनों पार्टियों के आलाकमान आखिरी फैसला लेना चाहते हैं। दरअसल सपा-बसपा के नेता केशिश में हैं कि राजभर को अपने खेमे में लाकर ऐसी रणनीति बनाई जाए, जिससे भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी की जा सके। आपको बता दें कि ओम प्रकाश राजभर योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं, लेकिन वह हमेशा प्रदेश सरकार की कार्य प्रणाली पर अपनी नाराजगी जाहिर करके सुर्खियां बटोरते रहते हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned