कोरोना के बढ़ते मामलों पर सीएम योगी का बयान, कहा सुरक्षा के लिए लॉकडाउन है जरूरी

सीएम ने कहा कि इस समय उत्तर प्रदेश में 308 कोरोना पॉजिटिव केस हैं, इनमें 168 केस तबलीगी जमात से जुड़े हैं

By: Karishma Lalwani

Published: 07 Apr 2020, 02:21 PM IST

लखनऊ. देश में कोरोनावायरस (COVID-19) का कहर लगातार जारी है. अबतक 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। नए मामलों में हर रोज इजाफा हो रहा है। ऐसे में स्थिति की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस वक्त लॉकडाउन बेहद जरूरी है। पिछले चार पांच दिनों में यूपी में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ी है। तबलीगी जमात के लोगों के प्रदेश की विभिन्न मस्जिदों में जाना चिंताजनक बात है। सीएम ने कहा कि इस समय उत्तर प्रदेश में 308 कोरोना पॉजिटिव केस हैं, इनमें 168 केस तबलीगी जमात से जुड़े हैं।

सीएम ने कहा कि कोरोना जैसी स्थिति से निपटने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। हमारे पास टेस्टिंग के लिए लैब नहीं थी लेकिन अब हमारे पास 10 लैब हैं। हमने कोविड केयर फंड स्थापित किया है, ताकि टेस्टिंग की सुविधाएं बेहतर हो सकें। इसके साथ ही ज्यादा पीपीई, टेस्टिंग किट्स और वेंटिलाइजर्स की व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश के सभी 24 मेडिकल कॉलेजों को अपग्रेड किया गया है। इनमें से 10 में पहले से ही कोरोना टेस्ट करने की सुविधा है, बाकी 14 मेडिकल कॉलेजों में जल्द ही लैब स्थापित कर दी जाएगी।

सभी जिला अस्पतालों में बनेगा लैब

सीएम ने कहा कि राज्य सरकार मंडलीय मुख्यालयों वाले सभी जिला अस्पतालों में लैब स्थापित करने जा रही है। मंडलीय मुख्यालयों में देवीपाटन मंडल में गोंडा, मिर्जापुर मंडल में मिर्जापुर, बरेली मंडल में बरेली, मुरादाबाद मंडल में मुरादाबाद और वाराणसी में बीएचयू के अलावा एक और हॉस्पीटल और लखनऊ में केजीएमयू और एसजीपीजीआई की लैब को अपग्रेड किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि यहां लेवल थ्री की लैब बनाई जा रही है, जो किसी भी तरह के वायरस की जांच के लिए सक्षम होगी। प्रदेश के कुल 14 मेडिकल कॉलेजों में भी कोविड-19 की लैब की स्थापना के निर्देश दिए गए हैं।

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned