गणतंत्र दिवस पर डीजीपी ओपी सिंह ने बताया यूपी के नाम पर ये किस्सा, फहराया तिरंगा

डीजीपी ओपी सिंह ने दी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं और बताया यूपी का इतिहास।

By: Dhirendra Singh

Updated: 26 Jan 2018, 07:59 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने डीजीपी मुख्यालय में 69वें गणतन्त्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण किया गया। साथ ही सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को गणतंत्र दिवस पर संकल्प दिलाया। वहीं उन्होंने उत्तर प्रदेश से जुड़ी सालों पुरानी बात का जिक्र किया। वहीं उन्होंने कहा कि समाज में शांति व्यवस्था बनाए रखने का उत्तरदात्यिव हमारा है।

डीजीपी ने बताया दो दिन पहले बदल कर बना था उत्तर प्रदेश
डीजीपी ओपी सिंह ने 69वें गणतंत्र दिवस पर अपने संबोधन में बताया कि उत्तर प्रदेश को पूर्व में यूनाइटेड प्राविन्स के नाम से जाना जाता था। 24 जनवरी 1950 को, गणतंत्र दिवस के दो दिन पूर्व इसे उत्तर प्रदेश का नाम दिया गया और प्रथम स्थापना दिवस मनाया गया।
डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हम जानते हैं कि वर्ष 1950 में आज ही के दिन भारत का संविधान अंगीकृत किया गया था। इस देश को एक प्रभुत्व सम्पन्न लोकतान्त्रिक गणराज्य बनाने का संकल्प लिया गया था। साथ ही शोषणमुक्त तथा भेदभाव रहित समाज बनाने की संरचना की गयी थी।

नहीं भुलाया जा सकता पुलिसकर्मियों का योगदान
डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि इस गणतान्त्रिक व्यवस्था को कायम रखने व सृदृढ़ करने में हमारे लाखों पुलिस कर्मियों का योगदान भुलाया नहीं जा सकता, जिन्होंने गुमनाम रहकर लोकतान्त्रिक गणराज्य के मूल्यों को समाज में प्रतिपादित करने में सराहनीय भूमिका अदा की है। उन गुमनाम नायकों, वीरों को हम नमन करते हैं।

हम पर है उत्तरदायित्व
समाज में शांति एवं सद्भाव बनाये रखने का उत्तरदायित्व हम पर है। अपराध नियंत्रण व शांति व्यवस्था बनाये रखना पुलिस का प्रमुख कर्तव्य है। वर्तमान बदलते परिवेश में समाज को पुलिस से बहुत अपेक्षाए हैं। ऐसे में हमें समर्पित भाव से अच्छे आचरण एवं व्यवहार के साथ जनता की सेवा कर उनका विश्वास अर्जित करना है। राष्ट्रविरोधी तत्वों की बढ़ रही गतिविधियां, आतंकवाद, साम्प्रदायिकता एवं मादक पदार्थों की तस्करी आदि की पुलिस के सामने महत्वपूर्ण चुनौतियां हैं।

अपराधियों ने निपटने के लिए आधुनिक हो रही पुलिस
डीजीपी ने कहा कि पुलिस बल को आधुनिक अस्त्र-शस्त्र संचार उपकरण व आधुनिकतम वाहन उपलब्ध कराये जा रहे हैं, ताकि वे अपराधियों से निपटने के लिये और अधिक सक्षम हों। समाज के निर्बल वर्ग, महिलाओं, बुजुर्गों तथा बच्चों के प्रति संवेदनशीलता एवं सहानुभूति रखते हुए समर्पण भाव रखें। वर्तमान समय में सूचना एवं संचार के क्षेत्र में हुई क्रांतिकार प्रगति व उन्नत तकनीक का प्रयोग करते हुए अपनी व्यवसायिक दक्षता बढ़ाकर अपराधियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही करनी है।

पुलिसकर्मियों को मिला सम्मान
69 वें गणतंत्र दिवस पर पुलिस महानिदेशक द्वारा प्रदेश के 6 पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को विशिष्ठ सेवा के लिए सम्मान मिला। वहीं 70 पुलिस कार्मिकों को सराहनीय सेवा के लिये राष्ट्रपति का पुलिस पदक, 50 पुलिस कार्मिकों को उत्कृष्ट सेवा सम्मान चिन्ह, 200 पुलिस कार्मिकों को सराहनीय सेवा सम्मान और 401 पुलिस कार्मिकों को प्रशंसा चिन्ह दिए गए।

Dhirendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned