दस्त नियंत्रण पखवाड़ा 28 मई से शुरू , इन बच्चों को वितरित की जाएगी दवा

दस्त नियंत्रण पखवाड़ा 28 मई से शुरू , इन बच्चों को वितरित की जाएगी दवा

Neeraj Patel | Publish: May, 25 2019 09:36:26 PM (IST) | Updated: May, 25 2019 09:41:44 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- 0-5 वर्ष तक के बच्चों को वितरित की जाएगी दवा
- आशाओं को मिलेगी 100 रुपये प्रोत्साहन राशि

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में दस्त से होने वाली बच्चों की मृत्यु की रोकथाम के लिए सभी जिलों में सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा 28 मई से शुरू हो जाएगा। दस्त नियंत्रण पखवाड़े के दौरान ओआरएस और जिंक की गोलियां प्रदेश के सभी जिलों को मुफ्त में बांटी जाएंगी। सबसे पहले पखवाड़े से पर्याप्त मात्रा में ओआरएस एवं जिंक कर्नर की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। जिसके लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (National Health Mission) के मिशन निदेशक पंकज कुमार ने पत्र लिखकर सभी मुख्य चिकित्साधिकारियों को दस्त नियन्त्रण से होने वाली मृत्यु की रोकथाम के लिए सख्त निर्देश दिए हैं।

सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़े की थीम जीरो चाइल्डहुड डेथ ड्यू टू डायरिया (Zero Childhood Death due to Diarrhea) रखी गई है। बता दें कि प्रदेश में साल 2018 – 19 में भी दस्त नियंत्रण पखवाड़े का सफलतापूर्वक आयोजन किया जा चुका है। मुख्य चिकित्साधिकारियों को इस बार भी सफलतापूर्वक आयोजन कराने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। पत्र में लिखा गया है कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे भारत में प्रतिवर्ष लगभग 1 लाख से अधिक बच्चों की मृत्यु दस्त के कारण ही होती है और बच्चों की मृत्यु के प्रमुख कारणों में दूसरे स्थान पर है जिसका उपचार ओआरएस एवं जिंक की गोली मात्र से किया जाता है और बाल मृत्यु दर में कमी लाने की कोशिश की जाती है।

विकासशील देशों में अधिक व्यापक रूप से दस्त रोग मौजूद है जिसका मुख्य कारण दूषित पेयजल, स्वच्छता एवं शौचालय का आभाव तथा 5 वर्ष तक के बच्चों का कुपोषित होना है। इसलिए इस वर्ष इस पखवाड़े का उद्देश्य प्रदेश में Zero Childhood Death due to diarrhea के स्तर को प्राप्त करना है। जिसके लिए अभी से प्रदेश के सभी जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारियों को पत्र लिखकर आदेश दे दिये गए हैं।

आशा कार्यकर्ताओं को मिलेगी 100 रुपए की प्रोत्साहन राशि

राष्ट्रीय स्वास्थय मिशन के प्रबंधक सतीश ने बताया कि दस्त नियंत्रण पखवाड़े में यूपी के सभी जिलों की आशा कार्यकर्ता द्वारा 0-5 साल तक के सभी बच्चों वाले परिवारों को ओआरएस के पैकेट का वितरण कराया जाएगा। आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर छोटे बच्चों के माता पिता से मुलाकात कर बताएंगी कि बच्चे को दस्त होने पर उसके साथ क्या चाहिए। इसके साथ ही वह स्वस्थ बच्चों के माता पिता को इस बात के लिए भी सलाह दें कि बच्चों को डायरिया से बचाने के लिए क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। दस्त नियंत्रण पखवाड़े में ड्यूटी करने वाली सभी आशा कार्यकर्ताओं को 100 रुपए की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। इसके साथ ही सभी माता-पिता को अपने बच्चों की शारीरिक सफाई के अलावा शुद्ध पेयजल का भी ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक हैं।

दस्त के लक्षण
- पानी जैसा लगातार मल का होना दस्त का बड़ा कारण है।
- गर्मी के कारण बार-बार उल्टी का होना।
- सबसे ज्यादा और बार-बार प्यास का लगना।
- पानी न पी पाना भी दस्त का कारण है।
- बुखार के समय दस्त लगना।
- मल में खून का आना।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned