मनीष गुप्ता हत्याकांड में पुलिस से लुक्काछिपी खत्म, आरोपित इंस्पेक्टर जेएन सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा गिरफ्तार भेजे गए जेल

Manish Gupta murder case - गोरखपुर पुलिस ने किया दोनों को गिरफ्तार, एसआईटी को सौंपा
- पूछताछ के बाद देररात एसआईटी ने दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया
- कोर्ट ने दोनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा
- कोर्ट में सरेंडर की फिराक में थे दोनों आरोपी

By: Sanjay Kumar Srivastava

Published: 11 Oct 2021, 08:22 AM IST

लखनऊ/गोरखपुर. Inspector JN Singh Inspector Akshay Mishra Arrested आखिरकार मनीष गुप्ता हत्याकांड के आरोपियों की पुलिस के साथ खेली जा रही लुक्काछुप्पी खत्म हो गई। आरोपित इंस्पेक्टर जेएन सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा को गोरखपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। और इस मामले की जांच कर रही एसआईटी को सौंप दिया। पूछताछ के बाद देररात एसआईटी ने दोनों आरोपियों को अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अमित कुमार की कोर्ट में पेश किया। जहां कोर्ट ने दोनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने बताया कि, आरोपी इंस्पेक्टर जगत नारायन सिंह और चौकी इंचार्ज अक्षय मिश्रा कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में मौका ढूंढ रहे थे इसलिए गोरखपुर आए थे। पर सटीक सूचना के आधार पर बांसगांव इंस्पेक्टर राणा देवेन्द्र सिंह ने देवरिया बाइपास मोड़ से दोनों को गिरफ्तार कर लिया। बाकी चार अन्य आरोपी पुलिसवालों की तलाश जारी है। इस मामले में आरोपित एक अन्य एसआई विजय यादव ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में सरेंडर की अर्जी डाली है।

पत्नी ने दर्ज कराया हत्या का मुकदमा :- कानपुर के बर्रा निवासी प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता 27 सितंबर को गोरखपुर आए थे। रामगढ़ ताल इलाके के कृष्णा पैलेस होटल में रुके थे। होटल के कमरे में चेकिंग करने पहुंचे पुलिसवालों की पिटाई से मनीष की मौत हो गई थी। मनीष की पत्नी मीनाक्षी ने पुलिसवालों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

जेल के नेहरु बैरक में कैद :- सतर्कता बरतते हुए पुलिस ने रामगढ़ताल थाने पर ही इंस्पेक्टर जेएन सिंह और एसआई अक्षय मिश्र का मेडिकल करवाया।। कोर्ट के आदेश के बाद दोनों आरोपियों को देर रात करीब एक बजे जेल लाया गया, जहां नेहरु बैरक में रखा गया है।

अपनी बात पर अडिग हैं दोनों आरोपी :- बताया जा रहा है कि, दोनों आरोपियों से पूछताछ की गई पर इंस्पेक्टर जेएन सिंह और चौकी इंचार्ज रहे अक्षय मिश्रा ने कहाकि मनीष गुप्ता ने ज्यादा पी रखी थी। नशे की हालत में ही उसे चोट आई और अस्पताल ले जाने के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

कोर्ट में सरेंडर की फिराक में थे दोनों आरोपी :- गोरखपुर एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने कहाकि, इंस्पेक्टर जेएन सिंह और एसआई अक्षय मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों कोर्ट में सरेंडर की फिराक में थे। दोनों को एसआईटी को सौंप दिया गया है। आगे की कार्रवाई एसआईटी करेगी।

लखीमपुर खीरी हिंसा को हिन्दू बनाम सिख बनाने की कोशिश की गई : वरुण गांधी

Sanjay Kumar Srivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned