यूपी के आम की डिमांड चीन और ईरान में भी, जानें क्या है कारण

यूपी का आम अब चीन और ईरान में भी बिकेगा। कई देशों में यूपी के आम निर्यातक लगाएंगे प्रदर्शनी

By:

Published: 16 May 2018, 12:40 PM IST

लखनऊ. यूपी का आम अब चीन और ईरान में भी बिकेगा। दरअसल इस बार प्रमुख उत्पादक उत्तर प्रदेश ईरान और चीन के निर्यात बाजारों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। भारत दुनिया का प्रख्यात आम उत्पादक है और चीन, थाईलैंड और पाकिस्तान के बाद वैश्विक उत्पादन में 40 प्रतिशत की भागीदारी रखता है। इसमें यूपी आम का 45 लाख टन सालाना उत्पादन करता है। राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड द्वारा 2017-18 के लिए उत्तर प्रदेश का योगदान 2.07 करोड़ टन रहने का अनुमान जताया गया है। हालांकि 2010 में अपनी प्रख्यात आम किस्म दशहरी को भौगोलिक संकेतक का (जीआई) दर्जा मिलने के बावजूद आम निर्यात में उत्तर प्रदेश का महाराष्ट्र, गुजरात और आंध्र प्रदेश जैसे अन्य राज्यों की तुलना में कम योगदान है।

ईरान-चीन में होगी प्रदर्शनी

यूपी के आम निर्यातक अगले महीने एक प्रोत्साहन कार्यक्रम के दौरान ईरान, चीन और ताजिकिस्तान में अपने देसी आम की किस्मों को प्रदर्शित करने की तैयारी कर रहे हैं। इस कार्यक्रम को कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) द्वारा आयोजित किया जाएगा। एपीडा लंबे समय से अन्य देशों में भारतीय आम ब्रांडों को प्रोत्साहित करता रहा है। हालांकि इस साल, उन्होंने जून में आम प्रोत्साहन कार्यक्रम की योजना बनाई है, जब प्रख्यात दशहरी आम बाजार में उपलब्ध होगा। सूत्रों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश से आम निर्यात की स्थिति निर्यातकों और आम उत्पादकों/व्यापारियों के व्यक्तिगत प्रयासों का परिणाम है और इसमें राज्य सरकारों से वित्तीय या बुनियादी ढांचागत मदद नहीं मिल रही है।

आम की हैं कई वैरायटी

उत्तर प्रदेश में दशहरी के अलावा आम की अन्य प्रमुख किस्मों में लंगड़ा, चौसा, आम्रपाली और मल्लिका शामिल हैं।वहीं अन्य राज्यों की आम किस्मों में अल्फान्सो (महाराष्ट्र), नीलम और केसर (गुजरात), सफेदा और बादामी (आंध प्रदेश) निर्यात बाजार में बेहद लोकप्रिय हैं। लगातार आयीं आंधियों ने 15 से 20 फीसद पैदावार को क्षति पहुंचाई है लेकिन पिछले कई वर्षो की तुलना में फसल अच्छी होने के कारण इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा।

आम उत्पादों को समर्थन दिए जाने की मांग

उत्तर प्रदेश स्थित एक्सपोर्ट हाउस के प्रवर्तक नदीम सिद्दीकी का कहना है, 'जहां अन्य राज्यों में ठोस समर्थन से यह सुनिश्चित हुआ है कि आम की किस्मों की अन्य देशों में अच्छी मांग है जबकि उत्तर प्रदेश के आम की किस्मों को पिछले कुछ वर्षों से राज्य सरकार की लगातार उदासीनता की वजह से अंतरराष्ट्रीय खरीदारों तक पहुंच हासिल नहीं हो पा रही है।' इस बीच, भारतीय आम उत्पादक संघ के अध्यक्ष इंसराम अली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को रियायतों के संदर्भ में राज्य के आम उत्पादों को समर्थन दिए जाने के लिए पत्र लिखे हैं। अली ने राज्य सरकार से आम को अन्य फसलों की तरह कृषि बीमा योजना में शामिल किए जाने की मांग की है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned