SC/ST छात्रों का परीक्षा शुल्क 24 गुना बढ़ाने के बाद मायावती ने सुनाया अपना आखिरी फैसला, भाजपा में मचा हड़कंप

SC/ST छात्रों का परीक्षा शुल्क 24 गुना बढ़ाने के बाद मायावती ने सुनाया अपना आखिरी फैसला, भाजपा में मचा हड़कंप

Ruchi Sharma | Updated: 13 Aug 2019, 12:53:21 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

केंद्र फैसले को लेकर बसपा सुप्रीमो (BSP Supremo) मायावती (Mayawati) ने विरोध

लखनऊ. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) छात्रों के लिए 10वीं और 12वीं कक्षा के बोर्ड परीक्षा शुल्क में 24 गुना वृद्धि की है। केंद्र फैसले को लेकर बसपा सुप्रीमो (BSP Supremo) मायावती (Mayawati) ने विरोध जाता है। ट्वीट कर मायावती ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। मायावती ने ट्वीट कर लिखा कि उत्तर प्रदेश बीजेपी सरकार द्वारा CBSE की परीक्षा शुल्क में जो 24 गुना तक बढ़ोतरी की गई है, जिसके तहत अब एस.सी.-एस.टी. छात्रों को 50 रुपये के बजाय 1200 रुपये देने होंगे। इसी ही प्रकार सामान्य वर्ग के छात्रों के शुल्क में भी दोगुनी वृद्धि की गई है। यह अति दुर्भाग्यपूर्ण व गरीब विरोधी फैसला है। सरकार इसे तुरन्त वापिस ले। बी.एस.पी. की यह मांग है।

यह भी पढ़ें- भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रही इस महिला ने अपने अधिकारी पति को ही करवाया निलंबित, सभी सरकारें कर रही है वाहवाही

बता दें कि अब अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) वर्ग के छात्रों को 50 रुपए के बजाय 1200 रुपये का शुल्क देना होगा। सामान्य वर्ग के छात्रों के शुल्क में भी दो गुनी वृद्धि की गई है और अब उन्हें 750 रुपये के स्थान पर 1500 रुपये देने होंगे। 10वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए छात्रों को नवीं कक्षा में और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए 11वीं कक्षा में पंजीकरण करना होता है।

यह भी पढ़ें- 12 साल बाद आपके मकान पर कब्जा कर लेगा किरायेदार, सुप्रीम कोर्ट का आया बड़ा फैसला

सीबीएसई ने पिछले हफ्ते फीस वृद्धि की अधिसूचना जारी की और जिन स्कूलों ने पुरानी व्यवस्था के तहत पंजीकरण प्रक्रिया शुरू हो गई है उन्हें छात्रों से फीस का अंतर वसूलने को कहा। अधिकारी ने बताया कि 12वीं की बोर्ड परीक्षा में अतिरिक्त विषय के लिए एससी/एसटी छात्रों को 300 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। पहले अतिरिक्त विषय के लिए इन वर्गों के छात्रों से कोई शुल्क नहीं लिया जाता था। सामान्य वर्ग के छात्रों को भी अतिरिक्त विषय के लिए 150 रुपये के बजाय अब 300 रुपये का शुल्क देना होगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned