सीएए हिंसक विरोध प्रदर्शन मामले में 15 आरोपियों पर लगा गैंगस्टर, 287 के खिलाफ चार्जशीट

बीते साल 19 दिसंबर 2019 को राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन के बीच आगजनी और तोड़फोड़ करने वाले 15 उपद्रवियों के खिलाफ पुलिस ने गैंगस्टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई की है।

लखनऊ. बीते साल 19 दिसंबर 2019 को राजधानी में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन के बीच आगजनी और तोड़फोड़ करने वाले 15 उपद्रवियों के खिलाफ पुलिस ने गैंगस्टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई की है। पुलिस के मुताबिक जल्द ही कुछ अन्य आरोपियों पर भी गैंगस्टर लगाया जाएगा। वहीं हिंसक प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने 287 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। साथ ही 18 आरोपियों के खिलाफ रासुका लगाने की तैयारी भी चल रही है। जबकि बलवा, तोड़फोड़, आगजनी, मारपीट, लोक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम और सरकारी कार्य में बाधा समेत अन्य धाराओं में कुल 63 मुकदमे दर्ज किए गए थे।

15 पर गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई

पुलिस के मुताबिक जिन 15 लोगों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की गई है उनमें इरफान, मो शोएब, मो शरीफ, मो आमिर, मो हारून, अब्दुल हमीद, नियाज अहमद, मो हामिद, इकबाल अहमद, शहनाज, मो समीर, मो फैजल, मो इकबाल, कफील अहमद और सलीम उर्फ सलीमुद्दीन शामिल हैं। इनमें से कई आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, जबकि बाकियों की तलाश जारी है।

बाकी की गिरफ्तारी के लिए दबिश जारी

पुलिस कमिश्नर लखनऊ सुजीत पांडे के मुताबिक लखनऊ के परिवर्तन चौक और पुराने लखनऊ के कुछ इलाकों में पिछले साल हिंसक प्रदर्शन हुए थे। जिसके बाद लखनऊ के 12 थानों में 52 अलग-अलग एफआईआर दर्ज कराई गई थी। पुलिस की सख्त कार्रवाई लगातार जारी है। इन मामलों में लॉ एंड ऑर्डर बिगाड़ने वाले 18 आरोपियों के खिलाफ रासुका लगाने की भी तैयारी है। दर्ज मुकदमों में 295 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया, 68 आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई हुई तो वहीं 28 अन्‍य पर गुंडा एक्ट लगाने की तैयारी चल रही है। जबकि 43 बचे हुए आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश जारी है।

यह भी पढ़ें: समय से पहले पहुंचा मानसून, पूरे यूपी को भिगोया, 24 जून को हो सकती है भारी बारिश

CAA
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned