आरपीएफ जवान की जेब में ट्रेन में 2000 से ज्यादा मिला तो माना जाएगा भ्रष्टाचारी

RPF Jawans will be Accused of Corruption if Found with More Money - भ्रष्टाचार (Corruption) रोकने के लिए रेलवे सुरक्षा बल ने नई व्यवस्था शुरू की है। अब आरपीएफ के जवान (RPF Jawan) ट्रैवलिंग से पहले लिखित में यह जानकारी देंगे कि उनकी जेब में कितनी नकदी है।

By: Karishma Lalwani

Published: 18 Sep 2021, 10:24 AM IST

लखनऊ. RPF Jawans will be Accused of Corruption if Found with More Money. भ्रष्टाचार (Corruption) रोकने के लिए रेलवे सुरक्षा बल ने नई व्यवस्था शुरू की है। अब आरपीएफ के जवान (RPF Jawan) ट्रैवलिंग से पहले लिखित में यह जानकारी देंगे कि उनकी जेब में कितनी नकदी है। नई व्यवस्था के तहत स्टेशन या ग्राउंड ड्यूटी पर तैनात जवान को 750 और ट्रेनों में एस्कॉर्ट ड्यूटी के दौरान 2000 रुपए से अधिक कैश नहीं रखना होगा। एसएसबी के डीजी और आरपीएफ के कार्यवाहक डीजी राजेश चंद्रा ने इस संबंध में निर्देश जारी किया है। आदेश के तहत रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) और रेलवे सुरक्षा विशेष बल (आरपीएसएफ) के जवान ड्यूटी जाॅइन करने से पहले लिखित में बताएंगे कि उनकी जेब में कितनी नकदी है? ऐसा न करने पर उनपर भ्रष्टाचार के आरोप में कार्रवाई की जाएगी।

पिछले दिनों मिली थी दलाली की शिकायतें

बीते दिनों आरपीएफ जवानों द्वारा टिकट दलाली की शिकायतें मिली थीं। इस तरह की हरकतों व शिकायतों को रोकने के लिए रेलवे ने यह व्यवस्था शुरू की है। सबसे अधिक भीड़भाड़ और पब्लिक डीलिंग पर इस तरह की हरकत ज्यादा होती है। बुकिंग, पार्सल, रिजर्वेशन, वर्कशॉप और सीएंडडब्ल्यू साइडिंग गेट, टेंडर सेल, सेंट्रल स्टोर्स, स्पेशल रेड और सील चेकिंग ड्यूटी करते हैं। ऐसे में अगर उनके द्वारा किसी भी लालच में आकर पैसों का लेनदेन किया भी जाता है, तो इसका पता लगाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए अब से सभी थानों पर रजिस्टर में जवान ड्यूटी ज्वाइन करने से पहले लिखित में बताएंगे कि उनके पास कितना कैश है। अगर निर्धारत से ज्यादा कैश मिलता है तो वह पूछताछ के दायरे में आ सकता है। इसके अलावा कार्य स्थलों के आसपास बनी चाय की दुकानों)/थड़ियों पर भी विशेष निगरानी रखी जाएगी।

ये भी पढ़ें: यूपीएससी ने असिस्टेंट प्रोफेसर, डीसीआईओ समेत कई पदों पर निकाली भर्ती, मिलेगी 7वां सीपीसी वेतन

ये भी पढ़ें: इस योजना में नौकरी जाने पर सरकार देती है भत्ता, औसक सैलरी का मिलता है 50 फीसदी हिस्सा

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned