उन्नाव की बेटी का अंतिम संस्कार आज, कल रास्ते में ही करना चाहता था प्रशासन, पीड़ित की बहन ने बयान देकर सीएम से की यह मांग

उन्नाव रेप पीड़ित (Unnao Rape Victim) की बहन ने बयान देते हुए मांग की है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उसके घर आएं और तत्काल सख्त कार्रवाई करें। साथ ही बहन ने सरकारी नौकरी देने की भी मांग की...

उन्नाव . उन्नाव रेप केस (Unnao Rape Case) से इस समय सभी के अंदर गम और गुस्सा है। थोड़ी देर बाद उन्नाव रेप पीड़ित (Unnao Rape Victim) का अंतिम संस्कार किया जाएगा। इस घटना के बाद से गांव में तनाव है। तनाव के माहौल को देखते हुए गांव में बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है। वहीं इस बीच पीड़ित की बहन ने बयान देते हुए मांग की है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उसके घर आएं और तत्काल सख्त कार्रवाई करें। साथ ही बहन ने सरकारी नौकरी देने की भी मांग की। आपको बता दें कि उन्नाव गैंगरेप पीड़ित (Unnao Gangrape) को दोषियों ने गुरुवार सुबह जिंदा जलाने की कोशिश की। पीड़ित की बाद में इलाज के दौरान दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई। पीड़ित की मौत के बाद उसका शव शनिवार देर शाम दिल्ली से उन्नाव लाया गया। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली से शव लाने के बाद पीड़िता का उन्नाव जिला प्रशासन के अधिकारी रास्त में ही अंतिम संस्कार कराना चाहते थे। लेकिन परिवार के विरोध के बाद अंतिम संस्कार आज पूरा कराने का फैसला किया गया।

सड़क पर उतरा विपक्ष

वहीं इससे पहले रेप पीड़िता के शव को कड़ी सुरक्षा के बीच शनिवार देर शाम दिल्ली से उन्नाव लाया गया। पीड़िता के साथ गैंगरेप के आरोपियों ने उसे गुरुवार सुबह जिंदा जलाने की कोशिश की थी, जिसके बाद 90 फीसदी तक झुलसी पीड़िता को पहले लखनऊ और फिर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान शुक्रवार रात पीड़िता की मौत हो गई, जिसके बाद देशभर में इस घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन हुए और विपक्ष सड़कों पर उतर आया।

उन्नाव में हालात बेहद नाजुक

जानकारी के मुताबिक पीड़िता का शव उन्नाव उसके गांव पहुंचने के बाद क्षेत्र के हालात बेहद नाजुक बने हुए हैं। कानून व्यवस्था के मद्देनजर सीतापुर, हरदोई और लखनऊ से पुलिस फोर्स को उन्नाव बुलाया गया है। इसके अलावा पीएसी को भी मौके पर तैनात किया गया है। मीडिया को पीड़िता के घर से दूर रखा गया है। पीड़िता के शव को घर के कच्चे बरामदे में रखा गया है। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली से शाव लाने के बाद पीड़िता के शव का उन्नाव के जिला प्रशासन के अधिकारी रास्त में ही अंतिम संस्कार कराना चाहते थे। लेकिन परिवार के विरोध के बाद अंतिम संस्कार आज पूरा कराने का फैसला किया गया। वहीं पीड़िता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता की मौत ज्यादा जलने की वजह से हुई है।

फास्ट ट्रैक कोर्ट में जाएगा केस

वहीं इस मामले के तूल पकड़ने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने पीड़िता के परिवार के लिए 25 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पीड़िता के परिवार को घर देने की भी घोषणा की गई। सीएम योगी ने इस केस को फास्ट ट्रैक में ले जाने की बात कही, जिससे कि मामले के दोषियों को जल्द और सख्त सजा दिलाई जा सके।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned