सिद्धार्थनाथ सिंह ने स्वास्थ्य व्यवस्था पर कही बड़ी बात

सिद्धार्थनाथ सिंह ने स्वास्थ्य व्यवस्था पर कही बड़ी बात

Abhishek Gupta | Publish: Sep, 12 2018 05:19:05 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कायाकल्प अवार्ड पर कहा कि पिछली साल की तुलना में यूपी को इस बार अवार्ड ज्यादा मिले हैं।

लखनऊ. चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कायाकल्प अवार्ड पर कहा कि पिछली साल की तुलना में यूपी को इस बार अवार्ड ज्यादा मिले हैं।

"मुझे अपने डॉक्टरों पर भरोसा था"-

कार्यक्रम में सिद्धार्थनाथ सिंह ने सरकारी अस्पतालों के इलाज के बारें में कई बातें कही। उन्होंने कहा कि जिला अस्पतालों की संख्या बढ़ी है। हमारे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्वास्थ विभाग की रीढ़ की हड्डी हैं, इसलिए इस पर ध्यान देने की बेहद जरूरत है। अपना अनुभव साझा करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे कुछ दिनों पहले स्टंट पड़े थे। लोगों ने मुझे अलग-अलग अस्पतालों में जाने की सलाह दी, लेकिन मुझे अपने डॉक्टरों पर भरोसा था। इसलिए मैनें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में अपना इलाज कराया।

ये भी पढ़ें- पूर्व कैबिनेट मंत्री का हैरान करने वाला बयान, कहा SC/ST एक्ट में सीएम को जेल भेजा जाना चाहिए

दरवाजे टूटे हैं, तो मरीज इलाज कराने से डरता है-

अस्पतालों की व्यवस्था के बारे में कहा सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि जब डॉक्टर अस्पताल को अपना घर समझेंगे तभी इसकी समस्या दूर हो पाएगी। यहां कायाकल्प में हम स्वच्छता की समस्या की बात कर रहे हैं। लेकिन आप जब अस्पताल में जाएंगे तो देखेंगे कि कितनी गंदगी है। दरवाजे टूटे हैं, तो मरीज इलाज कराने से डरता है। उन्होंने आगे कहा कि अस्पतालों के लिए अधिक बजट की व्यवस्था होगी।

ये भी पढ़ें- सपा के दिवगंत नेता दर्शन सिंह यादव की आत्मा की शांति के लिए कराया गया हवन, रामगोपाल समेत कई हुए भावुक

वहीं अस्पतालों में बजट को लेकर भी मंत्री ने कहा कि स्वच्छता पर फंड का 40 % भी ख़र्च नहीं हो पा रहा है। जिला अस्पतालों को वर्ल्ड बैंक से फंड देने की व्यवस्था की जा रही है।

ये भी पढ़ें- आनन-फानन में मुख्तार अंसारी की जेल में पहुंचे डीएम-एसपी, दिए बड़े निर्देश, जेल प्रशासन में हड़कंप

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned