मोक्ष पाने यहां चूहे पीते है गंगाजल, तीन महीने में अब तक पी चुके 21 बोतल

मोक्ष पाने यहां चूहे पीते है गंगाजल, तीन महीने में अब तक पी चुके 21 बोतल

Bhawna Chaudhary | Publish: May, 14 2019 12:02:52 PM (IST) Mahasamund, Mahasamund, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ के महासमुंद के डाकघर में तीन महीने के भीतर चूहे (Mouse) करीब 21 बोतल गंगाजल पी गए

महासमुंद. चूहों की हिमाकत सुनकर आश्चर्य होगा कि चूहे (Mouse) भी मोक्ष पाने गंगाजल पीते है, जी हां पर ऐसा ही हुआ है। छत्तीसगढ़ के महासमुंद के डाकघर में तीन महीने के भीतर चूहे करीब 21 बोतल गंगाजल (Gangajal) पी गए और...

करीब दो साल से डाकघरों में भी गंगाजल की बिक्री हो रही है। छह महीने पहले महासमुंद डाकघर ने ऋषिकेश से 50 सेट गंगाजल मंगवाया था। एक सेट में करीब 46 बोतल होते हैं। यानी 2300 गंगाजल के बोतल आए थे। गंगाजल की बिक्री होती गई, किसी ने बोतल की ओर ध्यान नहीं दिया। कुछ दिन पहले डाकघर के कर्मचारियों ने देखा कि कई बोतल खाली हैं, उसमें गंगाजल नहीं है। ध्यान से देखा तो प्लास्टिक की बोतल को चूहे कुतर गए थे। गंगाजल की एक बूंद भी नहीं थी। यह देखकर कर्मचारी चौंक गए। वहीं चूहों के आतंक के कारण डाकघर में दस्तावेज भी सुरक्षित नहीं रह गए हैं। चूहे दस्तावेजों को कुतर-कुतर कर बर्बाद कर रहे हैं। चूहों के आतंक से दस्तावेजों की सुरक्षा डाकघर के कर्मचारियों के सामने चुनौती बन गई है। किए जा रहे उपाय भी काम नहीं आ रहे हैं।

सावन में गंगाजल की डिमांड अधिक रहती है
ज्ञात हो कि जो लोग गंगा नदी से गंगाजल नहीं ला सकते, उनके लिए डाकघर ने सुविधा मुहैया कराई है। ताकि उन्हें आसानी से गंगाजल मिल सके। पूजा-पाठ या अन्य कामों के लिए लोगों को गंगाजल की जरूरत पड़ती है। डाकघर में रोज सात-आठ बोतल गंगाजल की बिक्री भी होती है। डाकघर के अधिकारियों ने बताया कि सावन महीने में गंगाजल की अच्छी बिक्री होती है। लोगों की डिमांड इतनी रहती है कि आपूर्ति नहीं कर पाते। बाकी दिनों में कम लोग ही गंगाजल खरीदकर ले जाते हैं।

चूहों से परेशान
महासमुंद, डाकपाल, संजय ठाकुर ने बताया चूहों के आतंक से परेशान हैं। गंगाजल की बोतल के अलावा दस्तावेजों को भी बर्बाद कर रहे हैं। तीन-चार महीने से कुछ ज्यादा ही परेशानी बढ़ गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned