script पढ़ने वाली बेटियों के विवाह में जल्दबाजी न करें, पहले उन्हें अपनी मंजिल पा लेने दें | Do not hurry in the marriage of daughters who are studying, let them f | Patrika News

पढ़ने वाली बेटियों के विवाह में जल्दबाजी न करें, पहले उन्हें अपनी मंजिल पा लेने दें

locationमंडलाPublished: Dec 12, 2023 08:27:58 pm

Submitted by:

Mangal Singh Thakur

शिक्षा किसी से नहीं करती भेदभाव, समाज की प्रगति के लिए करें कार्य

पढ़ने वाली बेटियों के विवाह में जल्दबाजी न करें, पहले उन्हें अपनी मंजिल पा लेने दें
पढ़ने वाली बेटियों के विवाह में जल्दबाजी न करें, पहले उन्हें अपनी मंजिल पा लेने दें

मंडला. क्रिकेट, हॉकी, कालाकारी के क्षेत्र में नाम कमाने, करियर बनाने के लिए आप को काफी मेहनत करनी पड़ेगी। दौड़ भाग करना होगा। आप को शारीरिक रूप से स्वस्थ रहना होगा। लेकिन शिक्षा पाने के लिए आप को यह सब करने की जरूरत नहीं है। शिक्षा किसी के साथ भेदभाव नहीं करती। यह कहना लोकेश कुमार लिल्हारे जीएसटी कमिश्नर जबलपुर जोन का है। लिल्हारे बिंझिया में आयोजित लोधी क्षत्रिय समाज के जिला स्तरीय सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। उन्होंने छात्र-छात्राओं और समाज के लोगों को सफलता के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने अभिभावकों से अपील करते हुए कहा कि जो बेटियां 75 से अधिक अंक पाकर सफल हो रही हैं। उनके विवाह के लिए जल्दबाजी ना करें। उन्हें अपनी मंजिल पा लेंगे उसके बाद विवाह कराएं। युवकों को सभी कार्यों में निपुण रहने के लिए प्रेरित किया। कहा कि सीखना अच्छी बात है हमेशा सीखते रहें। उन्होंने कहा कि समाज को नशामुक्त बनाने कार्य किया जा रहा है। जो जुआ, सट्टा और नशे का आदि हो ऐसे युवकों को अपनी बेटी ना दें। जैसे बेटी नहीं बचाओगे तो बहू कहां से लाओगे? का नारा दिया जाता है। वैसे ही हमें समझना होगा कि बेटा नहीं बचाओगे तो बहू किसके लिए लाओगे? सभी को मिलकर नशा मुक्त और शिक्षित समाज बनाने का कार्य करना होगा।

छू लो आसमान किसने रोका है संचालिका साक्षी लिल्हारे ने नवोदय विद्यालय में चयन के लिए बच्चों को दी जा रही नि:शुल्क कोचिंग के लिए आलोक की सराहना की। उन्होंने कहा बच्चों को प्रतियोगी परीक्षा के लिए सोशल मीडिया, मोबाइल एप, वीडियो के माध्यम से तैयारी कराई जा रही है। जिसका सभी बच्चे लाभ उठाएं।

ट्रेंडिंग वीडियो