86 हजार विद्यार्थियों की गणवेश में आवंटन का फंसा पेंच

86 हजार विद्यार्थियों की गणवेश में आवंटन का फंसा पेंच
mandsaur news

Vikas Tiwari | Updated: 24 Aug 2019, 04:24:54 PM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

86 हजार विद्यार्थियों की गणवेश में आवंटन का फंसा पेंच

मंदसौर.
जिले के सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले करीब ८६ हजार विद्यार्थियों की गणवेश की राशि पर आवंटन का पेंच फंसा हुआ है। जिसके चलते अभी तक इन हजारों विद्यार्थियों को बिना गणवेश के ही स्कूल जाना पड़ रहा है। शिक्षा अधिकारियों को कब तक आवंटन आएगा। इसको लेकर भी जानकारी नहीं है। कोई अधिकारी सितंबर माह तो कोई उससे पहले आने की कह रहे है।
नवीन शिक्षण सत्र निजी विद्यालयों की तर्ज पर अप्रैल माह में ही शुरू हो जाता है। इसके बाद १ मई से फिर ग्रीष्मकालीन अवकाश शुरू हो जाते हैं। फिर जुलाई से स्कूल लगने लगा है। ऐसे में शिक्षण सत्र २०१९-२० शुरू हुए करीब तीन माह बीत चुका है। लेकिन बच्चों के पास गणवेश की राशि नहीं आई है।
डीईओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार पहले बच्चों के खाते में गणवेश की राशि के ४०० रुपए आते थे। जिसे गत वर्ष से बढ़ाकर करीब ६०० रुपए कर दिया गया है। इस राशि में बच्चों को करीब दो गणवेश सिलवाना होती है। यानि एक गणवेश के लिए ३०० रुपए मिलते हैं। यह राशि राज्य शिक्षा केंद्र से जारी होने के बाद पहले जिला शिक्षा केंद्र से एमएमसी के खाते में भेजी जाती है। फिर एसएमसी से बच्चों के खाते में जाती है। इस प्रक्रिया में करीब १५ दिन से अधिक का समय लग जाता है। राज्य शिक्षा केंद्र से गत वर्ष के नामांकन के आधार पर करीब ८० प्रतिशत बच्चों के गणवेश की राशि भेजी जाती है। ऐसे में शेष बच्चों की राशि जिला शिक्षा केंद्र से प्रपोजल बनाकर भेजने पर आती है। लेकिन इस बार अभी तक पहली किश्त भी नहीं आई है।
इनका कहना.....
गणवेश के लिए आवंटन जल्द ही आएगा। जैसे ही आवंटन आएगा। विद्यार्थियों को राशि वितरीत कर दी जाएगी।
-आरएल कारपेंटर, प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned