विहिप नेता की हत्या का षडय़ंत्र बजरंग दल नगर संयोजक विक्की गोसर ने दीपक के साथ बनाया था

विहिप नेता की हत्या का षडय़ंत्र बजरंग दल नगर संयोजक विक्की गोसर ने  दीपक के साथ बनाया था
विहिप नेता की हत्या का षडय़ंत्र बजरंग दल नगर संयोजक विक्की गोसर ने साथ दीपक के साथ बनाया था

Nilesh Trivedi | Updated: 12 Oct 2019, 09:43:36 PM (IST) Mandsaur, Mandsaur, Madhya Pradesh, India

विहिप नेता की हत्या का षडय़ंत्र बजरंग दल नगर संयोजक विक्की गोसर ने दीपक के साथ बनाया था

मंदसौर.
पुलिस कंट्रोल रूम पर शनिवार को पुलिस अधीक्षक हितेश चौधरी ने विहिप नेता युवराज ङ्क्षसह चौहान की हत्या का खुलासा किया। पुलिस ने इस मामले में तीन शूटर और रैकी करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों से हत्या में प्रयुक्त हथियार, पांच जिंदा राउंड, दो खाली खोके के साथ जिस बाइक से रैकी की थी। उसे भी जप्त कर लिया है। पुलिस ने चारों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया, जहां से चारों आरोपियों को १४ अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है।


पुलिस अधीक्षक हितेश चौधरी ने बताया कि आरोपियों से प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि दीपक तंवार और युवराज ङ्क्षसह चौहान के बीच केबल एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिद्धंद्विता के चलते पूर्व में विवाद हो चुके है। दीपक को यह एहसास हो गया था कि युवराज ङ्क्षसह चौहान कुछ दिनों में त्यौहार के दौरान उसे मारना चाह रहा है। २०१७ में सोनू गोस्वामी की हत्या कारित करने वाले आरोपी लल्लू उर्फ ललित की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से युवराज मदद करता था। सोनू गोस्वामी की हत्या की रिपोर्ट दर्ज करने में फरियादी विक्की गोसर ही था। विक्की गौसर सोनू गोस्वामी का करीबी था। सोनू गोस्वामी के रिश्तेदार एवं सहकारोबारी होने के चलते भी युवराज को मारने के लिए उत्तेजित थे। पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि विक्की गोसर विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल का नगर संयोजक है। फेसबुक पर लिखा हुआ है।


अलावदाखेड़ी में बनाई थी योजना
पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि युवराज सिंह की हत्या को लेकर एक माह पहले दीपक तंवर, विक्की गोसर ने अलावदाखेड़ी जाकर अंकित तंवर, नागेश गोस्वामी, छोटू उर्फ फैजान, अनिस मेव, सुनिल गोस्वामी और अनिल दरिंग के साथ मिलकर योजना बनाई। युवराज ङ्क्षसह चौहान से प्रतिद्धंद्धिता और सोनू गोस्वामी का बदला लेने के उद्देश्य से आरोपियों द्वारा योजना बनाई गई।


हत्या की योजना के बाद रैकी की शुरु
उन्होंने बताया कि योजना के बाद आरोपियों द्वारा युवराज ङ्क्षसह चौहान की रैकी शुरु की। ९ अक्टूबर को एक बाइक पर सुनिल गोस्वामी, एक पर अनिल दरिंग, कार में अनिश और छोटू रैकी कर रहे थे। जैसे ही युवराज सिंह बिजली का बिल भर चाय की दुकान पर खड़ा हुआ। उसके बाद छोटू उर्फ फैजान कार से उतरकर लाला गोस्वामी और अंकित के साथ बाइक पर बैठ गया। इसके बाद तीनों बाइक सवार फैजान, लाला गोस्वामी और अंकित उतरे और युवराज सिंह पर फायर कर फरार हो गए।


पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि आरोपी विक्की गोसर नगर पालिका में कर्मचारी है। नपा के स्वास्थ्य अमले में डेली वेजेस पर कार्यरत है। सितंबर माह में तनख्वाह भी दी गई है। सोनू गोस्वामी का भतीजा आरोपी लाला गोस्वामी है। लाला गोस्वामी का रिश्तेदार सुनिल गोस्वामी भी लाला गोस्वामी के साथ इसमें शामिल है। जिसने रैकी की थी। वहीं फैजान भी सोनू गोस्वामी के लिए काम करता था। इसके साथ ही विक्की गोसर भी सोनू गोस्वामी का करीबी था।
यह आरोपी अब तक फरार
पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। चारों आरोपियों को कोतवाली थाने से पैदल-पैदल कोर्ट तक ले गए। और न्यायालय में पेश किया। यहां से १४ अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया। वही दो मुख्य षडय़ंत्रकारी विक्की गोसर एवं दीपक तंवर अभी फरार है। इन दोनों के अलावा अनीस और सुनिल गोस्वामी फरार है। पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि छोटू उर्फ फैजान के खिलाफ ७ प्रकरण, दीपक तंवर के खिलाफ ७ प्रकरण, अंकित तंवर के खिलाफ चार प्रकरण, नागेश उर्फ लाला गोस्वामी के खिलाफ दो प्रकरण, अनिल दरिंग के खिलाफ तीन प्रकरण, विक्की उर्फ हेमंत गोसर छह प्रकरण और अनीश के खिलाफ तीन प्रकरण दर्ज है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned