सोना से मालामाल बनने का शानदौर मौका, इन तरीकों से करें निवेश

  • रिकॉर्ड स्तर पर चल रहा सोना का भाव।
  • अलग-अलग तरीकों से निवेश कर बना सकते हैं मोटा पैसा।
  • निवेश से पहले सावधानी बरतनी जरूरी।

By: Ashutosh Verma

Updated: 12 Aug 2019, 03:36 PM IST

नई दिल्ली। बीते कुछ समय में इक्विटी बाजार में भारी बिकवाली का दौर देखने को मिला है, लेकिन दूसरी तरफ सोने के भाव में जबरदस्त उछाल रहा। कई शहरों के सर्राफा बाजार में तो सोने का भाव ऐतिहासिक स्तर पर पहुंच गया है। विश्लेषकों का मानना है कि आगामी त्योहारी सीजन को देखते हुए कहा जा सकता है कि सोने की कीमतों में तेजी तो होगी, लेकिन कितनी तेजी होगी यह कहना मुश्किल है।

ऐसे में यदि आप भी सोने से भरपूर कमाई करना चाहते हैं, लेकिन समझ नहीं आ रहा कि आखिर कैसे सोने में निवेश करना है तो चिंता न करें। आज हम आपको उन चार तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप आसानी से सोना में निवेश करते हैं।

यह भी पढ़ें - RIL 42nd AGM: रिलायंस के रिफाइनिंग कारोबार में 20 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगी सऊदी अरामको

Gold

1. आपके नजदीकी ज्वेलर्स कई तरह के गोल्ड सेविंग्स स्कीम का ऑफर देते हैं। अलग-अलग ज्वेलर्स का अपना-अपना सेविंग्स स्कीम होता है जो कि 10 महीनों से लेकर 13 महीनों तक का होता है। इसके तहत आपको हर माह एक छोटी रकम जमा करनी होती है। बेहत कम समय के लिए सोने में निवेश करने के लिए यह एक अच्छा विकल्प होता है।


2. फिजिकल गोल्ड

फिजिकल गोल्ड भी निवेश का एक अन्य विकल्प है। अगर आप इसमें निवेश के बारे में सोच रहे हैं तो इसमें आप किसी ज्वेलरी के रूप में न करें। फिजिकल गोल्ड में निवेश का सबसे अच्छा विकल्प कॉइन है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ज्वेलरी में निवेश करने से आपको मेकिंग खर्च उठाना पड़ता है। हालांकि, यह विकल्प आपके लिए तभी बेहतर है, जब आप छोटी मात्रा में निवेश करना चाहते हैं। नियमों के मुताबिक, आप एक तय सीमा से अधिक सोना अपने घर में नहीं रख सकते हैं। साथ ही इनके चोरी होने का भी डर बना रहता है।

Gold

यह भी पढ़ें - रिलायंस AGM में मुकेश अंबानी ने किये कई बड़े ऐलान, एक क्लिक में जानिये सभी प्रमुख बातें

3. गोल्ड फ्यूचर

गोल्ड फ्यूचर की ट्रेडिंग मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ( MCX ) पर होती है जोकि फिजिकल गोल्ड खरीदने के मुकाबले बिल्कुल अलग होती है। इसके लिए आपको ब्रोकर के जरिये एक अकाउंट खुलवाना होता है, जो एमसीएक्स का सदस्य हो। गोल्ड फ्यूचर भी उसी तरीके से काम करता है, जैसे कि स्टॉक्स और करंसी मार्केट में ट्रेडिंग होती है। लेकिन, गोल्ड फ्यूचर अलग-अलग भाव और अलग-अलग फार्म में ट्रेड होता है। इसमें भी ब्रोकरेज चार्ज उतना ही लगता है, जैसे स्टॉक्स और करंसी के लिए लगता है। अगर आप भी इसमें निवेश करना चाहते हैं तो इससे से जुड़ी सभी जानकारी आप अपने ब्रोकर के जरिये ले सकते हैं।


4. गोल्ड ईटीएफ

गोल्ड ईटीएफ का मतलब है कि इलेक्ट्रॅानिक फॉर्म में सोने में निवेश कर रहे हैं। इसमें आपको न ही स्टोरेज का डर है और न ही चोरी का । गोल्ड ईटीएफ के लिए आपको केवाईसी की जरूरत होगी। इसके साथ आपका पता और पहचान पत्र की भी जरूरत होगी। गोल्ड ईटीएफ में भी आपको उसी तरह निवेश करना होता है, जिस तरह किसी स्टॉक्स में निवेश किया जाता है। इसके लिए ब्रोकरेज चार्ज काफी कम होता है।

Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned