जीडीपी के आंकड़ों और विदेशी बाजारों से तय होगी शेयर बाजार की चाल

  • अगले हफ्ते आने वाले हैं जीडीपी के आंकड़ें, विदेशी बाजारों में देखने को मिलेगी नजर
  • बांड यील्ड में इजाफे से बीते सप्ताह शेश्र बाजार में देखने को मिली थी गिरावट

By: Saurabh Sharma

Updated: 28 Feb 2021, 03:04 PM IST

नई दिल्ली। बांड बाजार से बेहतर रिटर्न मिलने की उम्मीदों और भू-राजनीतिक तनाव के चलते बीते सप्ताह शेयर बाजार में बिकवाली का भारी दबाव रहा और निराशाजनक माहौल से बाजार फिलहाल उबरता नहीं दिख रहा है। हालांकि, आगामी कारोबार सप्ताह प्रमुख आर्थिक आंकड़ों पर बाजार की प्रतिक्रिया देखने को मिलेगी। खासतौर से बीते सप्ताह के आखिर में जारी हुए जीडीपी के आंकड़ों पर बाजार की प्रतिक्रिया अभी आना बाकी है।

वहीं, सप्ताह के आरंभ में सोमवार मार्केट मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई के फरवरी महीने के आंकड़े जारी होंगे जबकि मार्केट सर्विसेज पीएमआई के आंकड़े बुधवार को जारी होंगे। फिर एक मार्च यानी सोमवार से ही ऑटो कंपनियों की बिक्री के आंकड़े जारी होने लगेंगे। इन सारे आंकड़ों का असर घरेलू शेयर बाजार पर दिखेगा और इनसे बाजार को दिशा मिलेगी।

यह भी पढ़ेंः- दुनिया के सबसे अमीर देश का प्रत्येक नागरिक है 53 लाख रुपए का कर्जदार

घरेलू आंकड़ों पर रहेगी नजरें
घरेलू आर्थिक आंकड़ों के साथ-साथ विदेशी आर्थिक आंकड़ों का भी बाजार पर असर देखने को मिलेगा। विशेष रूप से चीन, अमेरिका और यूरोप में जारी होने वाले प्रमुख आर्थिक आंकड़ें काफी मत्वपूर्ण होंगे। सप्ताह के आरंभ में सोमवार को ही चीन में कैक्सिन मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई के फरवरी महीने के आंकड़े जारी होंगे और इसी दिन अमेरिका और यूरोप मे भी मार्केट मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई के फरवरी महीने के आंकड़े जारी होंगे। अमरीका में सप्ताह के आखिर में शुक्रवार को गैर-कृषि क्षेत्र के रोजगार के अहम आंकड़े जारी होंगे जिनका बाजार को इंतजार रहेगा।

यह भी पढ़ेंः- टेक्नीकल फॉल्ट के बाद एनएसई का आया बड़ा बयान, टेक्नोलॉजी में किया इतना खर्च

बांड यील्ड में जोरदार इजाफे से हुई बिकवाली
जानकार बताते हैं कि बांड की यील्ड में जोरदार इजाफा होने से शेयर बाजार में जो बिकवाली का दबाव है वह फिलहाल रहेगा। हालांकि शॉर्ट टर्म में गिरावट पर लिवाली और तेजी की स्थिति में बिकवाली बनी रहेगी। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के निवेश के प्रति रुझानों पर भी बाजार की नजर होगी। बीते सप्ताह शुक्रवार को एफआईआई ने भारत के शेयर बाजार से 8,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम लिकाली। अंतराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव और अमेरिकी डॉलर के मुकाबले देसी करेंसी रुपए की चाल पर भी निवेशकों की निगाहें टिकी रहेंगी।

यह भी पढ़ेंः- सोना खरीदने का यही है सही समय, दो महीनों में 4500 रुपए सस्ता हुआ सोना

विधानसभा चुनाव पर भी रहेंगी नजरें
बाजार विशेषज्ञ बताते हैं कि इस सप्ताह भी घरेलू शेयर बाजार की चाल मुख्य रूप से वैश्विक संकेतों से ही तय होगी। हालांकि, घरेलू आर्थिक कारकों के साथ-साथ राजनीतिक घटनाक्रमों पर भी निवेशकों की नजर बनी रहेगी। खासतौर से पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में होने जा रहे विधानसभा चुनावों से जुड़ी राजनीतिक गतिविधियों पर बाजार की नजर बनी रहेगी। इन पांचों राज्यों में 27 मार्च से 29 अप्रैल के दौरान मतदान होगा जबकि दो मई परिणाम आएंगे।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned