माँ गोदम्मा जी का 5 दिवसीय विवाहोत्सव हुआ शुरू

- 5 दिवसीय माँ गोदम्मा जी का शुरू हुआ विवाहोत्सव

- माँ गोदम्मा जी घूंघट ओढ़े चाँदी की पालकी में विराजमान होकर निज मन्दिर से निकली

- रँगनाथ मन्दिर में माँ गोदम्मा जी भगवान श्री कृष्ण को वर के रूप में प्राप्त करने के लिए एक माह तक वृत रखती हैं

- एक माह तक वृत रखती हैं जिसे धनुर्मास कहा जाता है

By: arun rawat

Published: 09 Jan 2021, 05:18 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

मथुरा. दक्षिण भारतीय शैली के उत्तर भारत के विशालतम दिव्यदेश रँगनाथ मन्दिर में शनिवार से 5 दिवसीय माँ गोदम्मा जी का विवाहोत्सव शुरू हुआ। माँ गोदम्मा जी घूंघट ओढ़े चाँदी की पालकी में विराजमान हो कर निज मन्दिर से निकली। परंपरागत वाद्य यंत्रों की मधुर धुन के बीच माँ गोदम्मा जी की सवारी मन्दिर प्रांगड़ में भृमण कर शेषशायी भगवान विष्णु के समक्ष पौंडानाथ मन्दिर पहुँची जहाँ विधि विधान से पूजन अर्चन किया गया। यहां से माँ गोदम्मा जी को बारहद्वारी स्थित मण्डप में ले जाया गया जहाँ हल्दी, चन्दन, केशर,विभिन्न नदियों के पवित्र जल आदि से अभिषेक किया गया। इसके बाद उनके केश संभाले गए। इस दौरान मन्दिर के सेवायत पुजारियों द्वारा वैदिक मंत्रों का पाठ अनवरत रूप से किया जा रहा था। रँगनाथ मन्दिर में माँ गोदम्मा जी भगवान श्री कृष्ण को वर के रूप में प्राप्त करने के लिए एक माह तक वृत रखती हैं जिसे धनुर्मास कहा जाता है। इस मास के अंतिम 5 दिन विवाहोत्सव के होते हैं। इस विवाहोत्सव के दर्शनों के लिए स्थानीय भक्तों के साथ साथ बाहर से आये श्रद्धालु भी मन्दिर पहुँच रहे हैं।

By - Nirmal Rajpoot

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned