जरूरी खबर: नई शिक्षा नीति में बदल जाएंगे कई नियम, पढ़ाई के साथ अब ये चीजें भी होंगी जरूरी

Highlights:

-विवि की नई शिक्षा नीति का मसौदा बनकर तैयार
-दूसरे वर्ष में कला और तीसरे वर्ष में सामाजिक गतिविधियों में लेनी होगी रूचि
-तीन साल में को करकुलम के छह विषय होेंगे शामिल

By: Rahul Chauhan

Published: 13 Oct 2020, 11:32 AM IST

मेरठ। नई शिक्षा नीति का मसौदा चौधरी चरण सिवि विवि में तैयार कर लिया गया है। शासन की ओर से नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के लिए बनी कमेटी ने इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया। जिस पर कमेटी के सभी सदस्यों ने अपनी सहमति जता दी है। प्रस्ताव को शासन को भेजा गया है। जिसके बाद वहां से हरी झंडी मिलने के बाद उसको विवि और इससे संंबंधित कालेजों में लागू कर दिया जाएगा। विवि की कमेटी द्वारा बनाए गए मसौदे के अनुसार चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय और उससे जुड़े कालेजों के छात्र-छात्राएं स्नातक प्रथम वर्ष में खेलकूद और शारीरिक गतिविधियों में अनिवार्य रूप से भाग लेना होगा।

दरअसल, विश्वविद्यालय में नई शिक्षा नीति वर्ष 2021-22 से प्रस्तावित है। इसे कैसे लागू किया जाना है। उसका मसौदा तैयार हो रहा है। नवंबर तक इसे शासन को भेज दिया जाएगा। अभी तक तो मसौदा तैयार किया गया है। उसमें स्नातक प्रथम वर्ष में मुख्य, सामान्य, वोकेशनल कोर्स के अलावा छात्रों को को-करकुलम कोर्स को भी पढऩा होगा। तीन साल में को करकुलम में छह विषय शामिल किए गए हैं। इसमें स्नातक प्रथम वर्ष में पहले सेमेस्टर में छात्रों को खेलकूद में अनिवार्य रूप से हिस्सा लेना होगा। यह पूरी तरह से गतिविधि आधारित होगा। दूसरे सेमेस्टर में छात्र अपनी रुचि के अनुसार किसी भी कला में प्रतिभाग करेंगे। तीसरे सेमेस्टर में छात्रों को सामाजिक सरोकार से जुडऩा होगा।

चौथे सेमेस्टर में डिजिटल अवेयरनेस के तहत छात्रों को टाइपिंग, कंप्यूटर आदि की जानकारी दी जाएगी। पांचवें सेमेस्टर में छात्र संवाद कौशल सीखेंगे। छठे सेमेस्टर में व्यक्तित्व विकास और नेत़त्व क्षमता से संबंधित कोर्स करेंगे। कमेटी के सदस्य प्रो. हरेकृष्ण के मुताबिक हर सेमेस्टर में एक कोर्स को- करकुलम को लेना होगा। इसमें दो क्रेडिट मिलेंगे। छह कोर्स को तीन साल में छात्रों को पूरा करना होगा।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned