Update: नलकूप चालक परीक्षा का पेपर इस शिक्षक ने किया था साॅल्व, यूपी के प्रतिष्ठित कालेज का रह चुका छात्र

Update: नलकूप चालक परीक्षा का पेपर इस शिक्षक ने किया था साॅल्व, यूपी के प्रतिष्ठित कालेज का रह चुका छात्र

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Sep, 02 2018 09:26:34 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

एसटीएफ ने तीन जनपदों के 11 लाेगों को गिरफ्तार किया

 

मेरठ। एसटीएफ मेरठ ने नलकूप ऑपरेटर का आउट किया हुआ पेपर बरामद कर लिया। पुलिस ने पेपर के साथ ही 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जिसमें आठ मेरठ के निवासी हैं। जबकि तीन बागपत व मुजफ्फरनगर के बताए है। एसटीएफ आठ लोगों से पूछताछ करने में जुटी है। पकड़े गए आरोपियों में एक सरकारी शिक्षक बताया गया है, इसी शिक्षक ने पूरे पेपर को साल्व किया और साल्व पेपर शनिवार की रात को ही अभ्यार्थियों को एक गुप्त स्थान पर बुलाकर दे दिया गया था। जिसे अभ्यार्थियों को याद करना था। एसटीएफ के अनुसार यह शिक्षक मेरठ कॉलेज का छात्र रह चुका है। आरोपियों से 14 लाख रुपये बरामद किए गए हैं।

यह भी पढ़ेंः आॅनलाइन टिकट बुकिंग पर रेलवे अपनी एक मुफ्त सेवा में करने जा रहा है बड़ा बदलाव, जानिए इसके बारे में

पेपर कैंसिल हाेने के बाद पूछताछ में जुटी

परीक्षा के एक दिन पहले पेपर सोशल साइट पर वायरल होने पर उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपी एसएसएससी) ने चयन परीक्षा को स्थगित कर दिया। पकड़े गए आरोपियों से एसटीएफ पूछताछ करने में जुटी है। आयोग की प्रस्तावित नलकूप चालक चयन परीक्षा का पेपर शनिवार को लीक हो गया था। आयोग ने राजधानी लखनऊ सहित आठ केंद्रों पर होने वाली प्रतियोगी परीक्षा स्थगित कर दी है। प्रकरण की जांच एसटीएफ को सौंपी है। आयोग जल्द परीक्षा की नई तिथि पर निर्णय करेगा। नलकूप चालक चयन परीक्षा के लिए आवेदन पिछली सरकार में लिए गए थे। 3210 पदों के लिए दो लाख से अधिक आवेदन आए थे। नई सरकार में आयोग के पुनर्गठन के बाद इसकी चयन प्रक्रिया को आगे बढ़ाने का फैसला हुआ था। आयोग ने लखनऊ के साथ कानपुर, इलाहाबाद, गोरखपुर, वाराणसी, मेरठ, बरेली और आगरा में लिखित परीक्षा कराने का फैसला किया था। परीक्षा प्रश्नपत्र ट्रेजरी को भेजे गए थे।

यह भी पढ़ेंः श्राद्ध शुरू हो रहे हैं 24 सितंबर से, इस बार यह दुर्लभ योग देगा अनंत गुना फल

वायरल होते ही कैंसिल हुई परीक्षा

आयोग नलकूप चालक की परीक्षा रविवार को कराने की तैयारी में जुटा था कि इसी बीच सोशल मीडिया पर प्रश्नपत्र वायरल हो गया।

Ad Block is Banned