कब्रिस्तान में गुपचुप तरीके से तैयार हो रहा था मौत का सामान

  • परीक्षिगढ़ पुलिस ने छापा मारकर एक को पकड़ा
  • भारी मात्रा में बने और अधबने तमंचे बरामद
  • पंचायत चुनाव के लिए मिले आर्डर कर रहा था पूरा

By: shivmani tyagi

Updated: 07 Sep 2020, 10:26 PM IST

मेरठ। जिले में पंचायत चुनाव की आहट के साथ ही अवैध असलहा बनाने का धंधा तेज हो गया है। रविवार को थाना परीक्षितगढ़ पुलिस ने ग्राम खजूरी के कब्रिस्तान में गुपचुप तरीके से चल रही तमंचा बनाने की फैक्ट्री का भंड़ाफोड़ किया है। इस दौरान पुलिस ने एक व्यक्ति को भारी मात्रा में बने और अधबने तमंचों के साथ गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें : घर के सामने थी डिस्टीलरी, देखकर कार में ही बनाली चलती फिरती शराब फैक्ट्री

पकड़े गए व्यक्ति ने पुलिस को जानकारी दी है कि उसको पंचायत चुनाव के मद्देनजर तमंचा बनाने के आर्डर मिले थे। मिले ऑर्डर को पूरा करने के लिए उसने कब्रिस्तान में फैक्ट्री लगाई थी। परीक्षितगढ़ एसओ मिथुन दीक्षित ने बताया कि थाना पुलिस ने मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर छापा मारा था। उन्होंने बताया कि पंचायत चुनाव के मददेनजर इस समय वांछित अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। उसी कड़ी में रविवार सुबह जब पुलिस गश्त करते हुए खजूरी स्थित काजियो के कब्रिस्तान के पास पहुंची तो ग्राम अहमदनगर बढ़ला निवासी खान मोहम्मद उर्फ खानू पुत्र मुंशी सैफी को अवैध शस्त्र बनाता हुआ पाया गया।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में सस्ता हो गया गेहूं, गिर गए दाम

पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया तथा उसके कब्जे से 20 बने हुए और अधबने तमंचे व अध्धी बंदूक तथा शस्त्र बनाने के उपकरण बरामद किए। आरोपी को कोर्ट में पेश किया है जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। एसआई नरेंद्र कसाना ने बताया कि थाने में आरोपी के खिलाफ विभिन्न धाराओं में 26 मुकदमे दर्ज हैं। आरोपी काफी समय से वांछित चल रहा था।

जानिए क्यों चुना कब्रिस्तान
पूछताछ में पुलिस को आरोपी ने बताया कि उसने तमंचा फैक्ट्री कब्रिस्तान में इसलिए लगाई थी ताकि सकून ने चल सके और किसी की नजर में भी ना आए। उसने बताया कि वह इससे पहले भी कई बार कब्रिस्तान में तमंचा फैक्ट्री लगाकर मौत का सामान तैयार कर चुका है।


500 रूपये में तमंचा और 1200 रूपये में अध्धी
आरोपी ने बताया कि एक तमंचा तैयार करने में करीब 350 रूपये की लागत आती है। बनने के बाद वह 500 रूपये में आगे बेचा करता है। इसी तरह से एक अध्धी तैयार करने में 800 रूपये के लगभग लागत आती है। जिसे वह 1200 रूपये में बेचा करता है। इस समय सर्वाधिक आर्डर तमंचों और अध्धों के मिल रहे हैं।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned