मोदी सरकार की नाराज मंत्री ने अब इस आरक्षण की मांग कर छेड़ा बड़ा मुद्दा

मोदी सरकार की नाराज मंत्री ने अब इस आरक्षण की मांग कर छेड़ा बड़ा मुद्दा

Mohd Rafatuddin Faridi | Publish: Jan, 09 2019 10:35:24 AM (IST) | Updated: Jan, 09 2019 10:43:42 AM (IST) Mirzapur, Mirzapur, Uttar Pradesh, India

केन्द्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने सदर में भी विपक्षी पार्टी की तरह रखी अपनी बात।

मिर्ज़ापुर. लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में पिछड़े वर्ग को लेकर चुनावी राजनीति तेज हो गई है। लोकसभा में आर्थिक आधार पर आरक्षण के बिल पर बोलते हुए जिस तरीके से अपना दल(एस) की नेता अनुप्रिया पटेल ने पिछड़े वर्ग के लिए जनसंख्या के अनुपात में आरक्षण की बात की वह दर्शाता है कि आने वाले वक्त में प्रदेश में पिछड़े वर्ग के मतों के लिए प्रमुख राजनैतिक दलों में लड़ाई तेज होने वाली है। संसद में अपने संबोधन के दौरान जिले से सांसद अनुप्रिया पटेल ने कहा कि देश की जनसंख्या के अनुपात में पिछड़े वर्ग की आबादी पचास से साठ प्रतिशत है लेकिन उनकी आबादी के अनुपात में उन्हें आरक्षण नहीं मिला है। जबकि आरक्षण से लाभान्वित अन्य वर्गों को जनसंख्या के अनुपात में लाभ मिला है।

 

उनका कहना है कि पूरे देश मे पिछड़े वर्ग के आरक्षण को अलग-अलग तरीके से लागू किया गया है। देश मे जहां तमिलनाडु में पिछड़ों के लिए सबसे अधिक आरक्षण की व्यवस्था की गई है तो वहीं मध्य प्रदेश में दिए गए 27 प्रतिशत आरक्षण को भी नहीं लागू किया गया है। अनुप्रिया पटेल ने सरकार से जानना चाहा कि क्या आने वाले समय मे जनसंख्या के बाद पिछड़े वर्ग के आरक्षण में कोई स संशोधन होगा। उन्हें उनकी जनसंख्या के हिसाब से आरक्षण का लाभ मिलेगा। पिछड़े वर्ग को जनसंख्या के अनुपात में आरक्षण देने की मांग को उठा कर अनुप्रिया पटेल ने भाजपा से चल रहे नाराजगीं के बीच एक बड़ा मुद्दा उठा दिया, जो आने वाले लोकसभा चुनाव में प्रमुख मुद्दा बन सकता है।

 

दरअसल प्रदेश में 2014 के लोक सभा चुनाव में पिछड़े वर्ग का भरपूर समर्थन भाजपा और अपना दल गठबंधन को मिला था। मगर जिस तरह से सपा और बसपा एक हो महागठंबधन की चर्चा चल रही है। वह आने वाले समय मे प्रदेश की राजनीति में पिछड़े वर्ग की राजनीति करने वाली अपना दल(एस) सहित तमाम पार्टियों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है।

 

छोटी राजनीतिक पार्टियों को डर है कि कही सपा को मजबूत देख अन्य पिछड़ी जाति खास तौर से पटेल समुदाय भी सपा के साथ न चला जाय।जबकि पिछले लोकसभा चुनाव में अपना दल को एक प्रतिशत मत मिला है। भाजपा ने अनुप्रिया पटेल को पिछड़े वर्ग के नेता के तौर पर चुनाव में प्रोजेक्ट किया था। इसीलिए अनुप्रिया पटेल अब सपा पर निशाना साधते हुए अब पिछड़े वर्ग को आबादी के अनुरूप आरक्षण का मुद्दा उठा कर खुद को पिछड़े वर्ग की सबसे बड़े नेता के तौर पर स्थापित करने की कोशिश करती दिख रही हैं।

By Suresh Singh

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned