सामने आई शराब की बात, इसलिए मध्‍य प्रदेश विधानसभा नहीं देगी श्रीदेवी को श्रद्धांजलि

सामने आई शराब की बात, इसलिए मध्‍य प्रदेश विधानसभा नहीं देगी श्रीदेवी को श्रद्धांजलि

अभिनेत्री श्रीदेवी के निधन के पीछे शराब पीने की बात सामने आने के बाद मध्‍य प्रदेश विधानसभा उन्‍हें श्रद्धांजलि नहीं देगी।

नई दिल्‍ली. बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में शराब पीने की बात सामने आने के बाद मध्‍य प्रदेश विधानसभा ने दिवंगत लोगों की सूची से उनका नाम हटा दिया है। इससे साफ हो गया है कि मध्‍य प्रदेश विधानसभा अभिनेत्री श्रीदेवी को श्रद्धांजलि नहीं देगी। आपको बता दें कि शनिवार को उनकी मौत दुबई के एक होटल के बाथरूम में हुई थी। दुबई में ही उनके शव का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनकी मौत के पीछे शराब का अधिक सेवन बताया गया है।
कांग्रेस ने जताई आपत्ति
मध्‍य प्रदेश विधानसभा अध्‍यक्ष के निर्णय पर कांग्रेस ने सख्‍त आपत्ति जताई है। कांग्रेस का कहना है कि श्रीदेवी देश की जानीमानी अदाकारा हैं और उनका भारतीय सिनेमा में अहम योगदान है। इसलिए उनका नाम दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि वाली सूची में होनी चाहिए। कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि ऐसा करना उनका अपमान होगा। कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह ने इस पर आपत्ति जताते हुए सदन में इस मुद्दे को रखने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पहले मंगलवार की सदन की कार्यवाही में श्रीदेवी का नाम शामिल था, लेकिन शाम को संशोधित कार्यवाही में उनका नाम हटा दिया गया है। जोकि गलत है। जबकि सदन में श्रीदेवी को भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए।
भाजपा ने दिलाई प्रोटोकॉल की याद
भाजपा का कहना है कि विधानसभा अध्यक्ष के निर्देश पर सदन में कार्यवाही होती है। श्रीदेवी की पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में शराब पीने की बात सामने आने के बाद विधानसभा अध्‍यक्ष को लगा होगा कि श्रीदेवी का नाम दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने वाली सूची में रखना उचित नहीं होगा। इसलिए उन्‍होंने सूची से नाम हटाने का निर्णय लिया होगा। दरअसल मंगलवार को सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले 11 लोगों श्रद्धांजलि दी जानी थी। इनमें से दो लोगों का नाम अंतिम समय में हटा दिया गया। इनमें श्रीदेवी और शशि कपूर का नाम शामिल है। शशि कपूर का नाम क्‍यों हटाया गया इसका कारण अभी तक नहीं बताया गया है।
विधानसभा सत्र सोमवार से शुरू
इस बीच एमपी विधानसभा का बजट सत्र सोमवार को शुरू हो गया। विधानसभा परंपरा के अनुसार सत्र के पहले दिन दिवंगत हस्तियों को श्रद्धांजलि दी जाती है। सोमवार को बजट सत्र का पहला दिन था। उस दिन राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का अभिभाषण होना था, इसलिए सदन में निधन उल्लेख नहीं किया गया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned