उत्तर प्रदेश में हज हाउस के बाद अब शौचालय हुए भगवा

उत्तर प्रदेश में हज हाउस के बाद अब शौचालय हुए भगवा

इटावा के अमृतपुर गांव के कुल 350 शौचालयों में से करीब 100 शौचालयों को केसरिया रंग में तब्दील कर दिया गया है।

इटावा : अभी लखनऊ में हज हाउस को भगवा रंग में रंगने का मामला थमा भी नहीं था कि अब यह खबर आ रही है कि इटावा के शौचालयों का भगवाकरण कर दिया गया है। इटावा जिले के अमृतपुर गांव के ३५० शौचालयों में से करीब १०० शौचालयों को भगवा रंग में तब्दील कर दिया गया है। गांव के लोगों के मुताबिक यह फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है और इससे यहां किसी को कोई आपत्ति नहीं है। अमृतपुर के ग्राम प्रधान वेद पाल ने बताया कि अभी तो 350 में से सिर्फ 100 शौचालयों को भगवा किया गया है। जल्द ही बाकियों को भी भगवा किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि शौचालयों को भगवा करने का फैसला गांव वालों का है। यह किसी दबाव में नहीं लिया गया है। लोगों के मुताबिक, ऐसा करने के पीछे उनकी सोच यह है कि देखकर सीएम योगी खुश होंगे और क्षेत्र में विकास कार्यों में बढ़ोतरी होगी।

अखिलेश ने कहा, धर्म का अपमान
शौचालयों पर भगवा रंग चढ़ाने से नाराज समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राज्य सरकार पर हमला बोला हैं। उन्होंने भाजपा सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि बीजेपी शौचालयों को भगवा रंग में रंगकर धर्म का अपमान कर रही है। बीजेपी ने शौचालयों को ‘इज्जत घर’ नाम देकर उसकी इज्जत पर भी रंग पोत दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि रंग बदलने से खुशहाली नहीं आएगी, क्योंकि रंग बदलने से विकास नहीं होता। अखिलेश ने कहा कि जनता होली के बाद बीजेपी का ही रंग बदल डालेगी।

हज हाउस पर मचा था बवाल
इसी महीने की 5 जनवरी को विधानसभा के पास हज राज्य समिति कार्यालय की दीवारों को भी भगवा कर दिया गया था। राज्य में इसका काफी विरोध हुआ था। भगवा करने से पहले हज हाउस की बाउंड्री हरे-सफेद रंग की थी। विवाद बढऩे पर यूपी राज्य हज कमेटी के सेक्रेटरी आरपी सिंह ने इसके लिए ठेकेदार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा था कि पोताई करने वाले ठेकेदार ने आदेश दिए गए रंग से अलग गाढ़ा रंग इस्तेमाल किया गया था, हज राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने कहा था कि ऐसे मामलों को तूल देने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि केसरिया रंग ऊर्जा का प्रतीक है।

 

Ad Block is Banned