राजधानी दिल्ली में बढ़ा ब्लैक फंगस का खौफ, एम्स और गंगाराम में मरीजों की भरमार

देश की राजधानी दिल्ली में मौजूदा समय में ब्‍लैक फंगस के 185 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इस नई परेशानी ने अरविंद केजरीवाल सरकार के साथ केंद्र सरकार की भी परेशानी हो बढ़ा दिया है।

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में कोविड 19 के बाद ब्लैक फंगस का खौफ लगातार बढ़ रहा है। दिल्ली सरकार भी इस मुसीबत से परेशान नजर आ रही है। एम्स और गंगाराम जैसे अस्पतालों में ब्लैक फंगस के शिकार मरीजों की भरमार हो गई है। अगर बात कोविड 19 की करें तो पिछले 24 घंटे में 3846 कोरोना के नए मामले दर्ज होने के साथ 235 मरीजों की मौत हुई है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश में 5 अप्रैल के बाद से पहली बार सबसे कम मामले देखने को मिले हैं।

यह भी पढ़ेंः- Adani Green ने Renewable Energy Sector में की सबसे बड़ी डील, 25000 हजार करोड़ रुपए में खरीदी कंपनी

ब्लैक फंगसव ने बढ़ाई परेशानी
देश की राजधानी दिल्ली में मौजूदा समय में ब्‍लैक फंगस के 185 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इस नई परेशानी ने अरविंद केजरीवाल सरकार के साथ केंद्र सरकार की भी परेशानी हो बढ़ा दिया है। ब्‍लैक फंगस के मरीज दिल्‍ली के सात अस्‍पतालों में भर्ती हैं, लेकिन इलाज की सुविधा ना होने की वजह से उन्हें एम्‍स जैसे बड़े अस्‍पतालों रेफर किया जा रहा है। मौजूदा समय में एम्‍स में 61 और सर गंगाराम अस्‍पताल में ब्‍लैक फंगस के 69 मरीजों को इलाज हो रहा है। इससे पहले दिल्‍ली एम्‍स में ऐसी बीमारी के 12 से 15 मामले देखने को मिलते थे। यही नहीं, दिल्‍ली एम्‍स और सर गंगाराम अस्‍पताल के अलावा मैक्‍स और इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में ब्लैक फंगस के कई मरीज सामने आ चुके हैं।

यह भी पढ़ेंः- Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana : सरकार ने एक साल में किया 1134 करोड़ रुपए के डेथ क्लेम का भुगतान, जानें वजह

इन लोगों को है सबसे ज्यादा खतरा
मीडिया रिपोर्ट में दिल्‍ली एम्‍स में न्‍यूरोलॉजी विभाग की प्रमुख डॉ. एमवी पद्मा श्रीवास्‍तव का कहना है कि मौजूदा समय में एम्स में रोजाना 20 से ज्‍यादा मामले आ रहे हैं। वैसे तो यह डायबिटीक पेशेंट्स के साथ हाई स्‍टीरॉयड डोज लेने वालों में देखने को मिलता है, इस तरह से मामले कभी नहीं बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि पहले इनकी संख्‍या सिंगल डिजिट में होती थी और अस्‍पताल में एक अलग वार्ड बनाया गया है। इस बात की आशंका है कि कमजोर इम्‍यूनिटी वालों को यह ज्‍यादा संक्रमित कर रहा है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned