Climate Change: 23 वर्षों में पिघली इतनी बर्फ कि ब्रिटेन में 100 मीटर मोटी चादर बिछ जाए, जानिए क्या है वजह

  • 65 फीसदी ज्यादा पिघल रही बर्फ
  • जर्नल द क्रायोस्फीयर में प्रकाशित शोध में खुलासा
  • लगातार बढ़ता तापमान व प्रदूषण सबसे बड़ी वजह

नई दिल्ली। तापमान और प्रदूषण बढ़ने के साथ ही दुनिया भर के ग्लेशियरों व अन्य जगहों पर जमी बर्फ ( Snow ) के पिघलने की रफ्तार तेज हो गई है। जर्नल द क्रायोस्फीयर में प्रकाशित शोध के अनुसार 65 फीसदी ज्यादा तेजी से जमा बर्फ पिघल रही है। 1994 से 2017 के बीच 28,00,000 करोड़ टन बर्फ पिघल चुकी है।
इस बर्फ से पूरे ब्रिटेन में 100 मीटर मोटी बर्फ की चादर बिछाई जा सकती है। गौरतलब है कि दुनिया की 10 फीसदी सतह बर्फ से ढकी है।

35 फीसदी बढ़ा समुद्र जलस्तर
शोधकर्ताओं का कहना है कि आधी से ज्यादा जो बर्फ पिघल चुकी है। 1994 से 2017 के बीच बर्फ पिघलने की वजह से समुद्र का जलस्तर 35 मिलीमीटर बढ़ चुका है। यह बड़े खतरे की ओर इशारा कर रहा है। इससे सिर्फ दक्षिण-पूर्व एशिया के 70 करोड़ लोगों के जीवन पर पड़ेगा।

पिघलती बर्फ...बढ़ता जलस्तर

एक लाख आबादी प्रभावित
इस शोध से जुड़े प्रमुख शोधकर्ता व लीड्स विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थॉमस स्लेटर के अनुसार अनुमान है कि समुद्री जल स्तर में हर एक सेंटीमीटर की वृद्धि से करीब एक लाख लोग विस्थापित होंगे। इससे तटीय क्षेत्रों में प्राकृतिक आवास व वन्य जीव खत्म हो जाएंगे।

सबसे बड़ा खतरा...
शोधकर्ताओं का कहना है कि जितनी बर्फ पिघल रही है उसका चौथाई हिस्सा ग्लेशियर का ही है। ग्लेशियर करोड़ों लोगों के जीवन का आधार हैं। इनसे पिघलने वाला साफ जल कई नदियों को जीवन देता है, जिससे कृषि, पीने का पानी के रूप में प्रयोग किया जाता है।

प्रदूषण कैसे जिम्मेदार
पहाड़ों के ऊपर उडऩे वाली धूल तेजी से बर्फ को पिघलाने में मदद कर रही है क्योंकि धूल में सूरज की रोशनी अवशोषित करने की क्षमता होती है। यही वजह है कि एशिया और अफ्रीका में तेजी से बढ़ती धूल बर्फ को पिघला रही है।

राहत...आर्कटिक में कम पिघल रही
ग्लेशियरों, ग्रीनलैंड, आइसलैंड में हर साल पिघलने की गति बढ़ रही है, लेकिन आर्कटिक में 13.1 फीसदी प्रति दशक की दर से इसमें कमी आ रही है।

1994 से 2017 के बीच

कहां कितनी बर्फ पिघली
610,000 करोड़ टन पहाड़ों पर मौजूद ग्लेशियरों से
380,000 करोड़ टन ग्रीनलैंड से बर्फ पिघल चुकी
250,000 करोड़ टन बर्फ पिघली अंटार्कटिक से

1994 के बाद
40 हजार करोड़ टन ग्लेशियर से बर्फ प्रति वर्ष पिघल रही
29.4 हजार करोड़ मीट्रिक टन प्रति वर्ष बर्फ पिघल ग्रीनलैंड व आइसलैंड में
12.7 हजार करोड़ मीट्रिक टन बर्फ प्रति वर्ष पिघल रही अंटार्कटिका में


ऐसे किया अध्ययन
शोधकर्ताओं ने दुनिया भर में 215,000 ग्लेशियरों, ग्रीनलैंड और अंटार्कटिका में ध्रुवीय बर्फ की चादर, साथ ही अंटार्कटिका और आर्कटिक और दक्षिणी महासागरों में समुद्र पर मौजूद बर्फ की चादर का अध्ययन किया है। वैज्ञानिकों ने बर्फ के इतनी तेजी से पिघलने के लिए बढ़ते तापमान और प्रदूषण को जिम्मेदार माना है।

1980 के बाद से वातावरण में तापमान 0.26 डिग्री सेल्सियस और समुद्र में 0.12 डिग्री सेल्सियस प्रति दशक की दर से बढ़ रहा है। 68 फीसदी धरती पर मौजूद बर्फ पिघली है। 32 फीसदी समुद्रों पर जमा बर्फ में कमी आई है।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned