Vaccine आने से पहले ब्रिटेन के अलावा इन 5 देशों में भी मिला Corona का नया स्ट्रेन, जानिए इससे जुड़ी 5 बड़ी बातें

  • Corona संकट के बीच नए स्ट्रेन VUI-202012/01 की पुष्टि ने बढ़ाई दुनिया की चिंता
  • ब्रिटेन के अलावा 5 अन्य देशों में भी मिला वायरस का नया प्रकार
  • 12 देशों ने ब्रिटेन से तोड़ा अपना यातायात संपर्क

नई दिल्ली। ब्रिटेन ( Britain ) में मिले कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए स्ट्रेन VUI-202012/01 की पुष्टि ने पूरी दुनिया की चिंता बढ़ा दी है। अभी कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) के बाजार में आने की खबरों ने लोगों को राहत दी ही थी, कि कोरोना का ये नया रूप एक बार फिर बड़ी मुश्किल लेकर सामने खड़ा हो गया है। वायरस के और ज्यादा खतरनाक स्ट्रेन मिलने से नई आशंकाओं को जन्म मिल गया है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने कहा है कि नया स्ट्रेन 70 फीसदी ज्यादा तेजी से फैलता है।

वहीं ब्रिटेन अकेला ऐसा देश नहीं है जहां कोरोना का नया स्ट्रेन मिला है। इसके अलावा भी 5 देशों में नए स्ट्रेन मिलने की पुष्टि हुई है। आईए जानते हैं कौनसे हैं वो पांच देश और इससे नए स्ट्रेन से जुड़ी पांच बड़ी बातें।

एक ही तकनीक पर बनने के बाद भी मॉडर्ना वैक्सीन फाइजर को छोड़ सकती है पीछे, जानिए क्या है बड़ी वजह

22_12_.jpg

12 देशों ने ब्रिटेन से तोड़ा यातायात संपर्क
कोरोना का नया स्ट्रेन नॉर्दर्न आयरलैंड को छोड़ पूरे ब्रिटेन में फैला चुका है। लेकिन इसका सबसे ज्यादा फैलाव लंदन, दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड और पूर्वी इंग्लैंड में देखने को मिल रहा है। यही वजह है कि करीब 12 देशों ने ब्रिटेन के साथ अपने यातायात संपर्क तोड़ दिए हैं। तो भारत में स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने आपात बैठक कर स्थितियों से निपटने पर चर्चा की है।

नए स्ट्रेन VUI-202012/01 से जुड़ी 5 बड़ी बातें
1. कोरोना के नए स्ट्रेन VUI-202012/01 को लेकर वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना की इस नई किस्म में कम से कम 17 बदलाव देखने को मिले हैं। इनमें सबसे बड़ा बदलाव स्पाइक प्रोटीन में देखने को मिला है।
आपको बता दें कि स्पाइक प्रोटीन के जरिए ही वायरस हमारे शरीर की कोशिकाओं में प्रवेश करता है।

2. कोरोना का नया स्ट्रेन बहुत ज्यादा तबदीली करने वाला है। खास तौर पर यह कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले रोगियों में उभर रहा है।
3. कोरोना वायरस के इस नए प्रकार को वीयूआई-202012/01 पहचान दी गई है। खास बात यह है कि ये प्रकार तेजी से महामारी फैला रहा है।

4. फरवरी 2020 में यूरोप में डी614जी प्रकार का वायरस मिला था। फिलहाल पूरे विश्व में सबसे ज्यादा यही प्रकार मिलता है। हालांकि नया स्ट्रेन वायरस को कोशिकाओं को संक्रमित करने की क्षमता बढ़ाने के लिए उन म्यूटेशन में से कुछ को प्रयोगशाला में पहले ही दिखाया जा चुका है। उस दौरान इसकी पुष्टि नहीं हुई थी।

5. हालांकि अब तक इस बात की पुख्ता पुष्टि नहीं हुई है कि ये नया स्ट्रेन संक्रमण को और ज्यादा घातक बना सकता है। शुरुआत जांच के बाद वैज्ञानिकों का मानना है कि जो वैक्सीन आ रही हैं वो निश्चित रूप से इससे लड़ने में मददगार साबित होंगी।

covid-.jpg

ब्रिटेन के अलावा इन पांच देशों में मिला स्ट्रेन
कोरोना वायरस का नया और खतरनाक स्ट्रेन के VUI-202012/01 ब्रिटेन के साथ-साथ पांच अन्य देशों में भी मिला है। इनमें ऑस्ट्रेलिया, इटली, नीदरलैंड, जिब्राल्टर और डेनमार्क प्रमुख हैं। इसके अलावा नए वायरस स्ट्रेन के बेल्जियम में होने की भी अपुष्ट खबरें आई हैं। वहीं फ्रांस और साउथ अफ्रीका का मानना है कि उनके यहां नया स्ट्रेन हो सकता है।

कोरोना संकट के बीच 4 जनवरी से खुलने जा रहे हैं स्कूल-कॉलेज, लेकिन पूरे करना होंगे ये नियम

स्ट्रेन से जुड़ी कुछ और जरूरी बातें
- 09 मौकों पर डेनमार्क में स्ट्रेन की पुष्टि हुई थी
- 01 बार ऑस्ट्रेलिया में ये स्ट्रेन पाया गया
- 01 मामला नीदरलैंड में इस महीने नए स्ट्रेन का सामने आया
- 20 सितंबर को नए स्ट्रेन की ब्रिटेन के केंट में पुष्टि हुई थी
- 60 फीसदी मामले अब तक ब्रिटेन के दक्षिण-पूर्व और लंदन में कोरोना के नए स्ट्रेन के हैं
- 09 मामले स्कॉटलैंड के ग्रेटर ग्लास्गो और क्लीडे क्षेत्र में भी पाए गए
-21 दिसंबर को ब्रिटिश क्षेत्र जिब्राल्टर में नए स्ट्रेन के एक मामले की पुष्टि हुई है
- 20 दिसंबर को ब्रिटेन से रोम पहुंचे एक इटालियन नागरिक में भी ये स्ट्रेन पाया गया

Coronavirus in india
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned