scriptCOVID-19 Expert Warning: Indians needs to be prepare for Coronavirus for next 2-3 years | कब तक खुद को कोरोना वायरस से बचाने की पड़ेगी जरूरत? मिल गया सबसे बड़े सवाल का जवाब | Patrika News

कब तक खुद को कोरोना वायरस से बचाने की पड़ेगी जरूरत? मिल गया सबसे बड़े सवाल का जवाब

देश में कहर बरपा रही कोरोना वायरस महामारी से लोगों को कब तक बच कर रहना होगा, एक बड़ा सवाल बन गया है। हालांकि विशेषज्ञों ने इसका जवाब देते हुए कहा कि अगले 2-3 वर्षों के लिए लोगों को खुद को तैयार रखने की जरूरत है।

नई दिल्ली

Updated: April 23, 2021 07:39:45 pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहे देश में ऑक्सीजन और जरूरी दवाओं की कमी एक बड़ी चुनौती बनी हुई है। इस बीच दिग्गज स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि भारत को कम से कम अगले दो से तीन सालों तक के लिए खुद को इस महामारी के खिलाफ तैयार करने की जरूरत है।
COVID-19 Expert Warning: Indians needs to be prepare for Coronavirus for next 2-3 years
COVID-19 Expert Warning: Indians needs to be prepare for Coronavirus for next 2-3 years
Good News: कोरोना वायरस के कोहराम के बीच सामने आई बड़ी खुशखबरी, देश के दिग्गज डॉक्टर ने दी शानदार जानकारी

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि जब तक देश में कोरोना वायरस का खात्मा करने वाली ओरल मेडिसिन (खाने या पीने वाली दवा-गोली) उपलब्ध नहीं हो जाती, तब तक हमें एक लंबी दौड़ यानी कम से कम अगले दो से तीन वर्षों के लिए खुद को तैयार करने की जरूरत है।
गुरुग्राम स्थित मेदांता-द मेडिसिटी में संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. नेहा गुप्ता के मुताबिक केंद्र और राज्य सरकारों को मौजूदा भयावह स्थिति के उलट अगले कुछ वर्षों के लिए एक अच्छी तरह से बेहद पुख्ता योजना बनाने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के एक मौसमी फ्लू जैसी बीमारी के तौर पर आगे भी बने रहने की संभावना है।
उन्होंने कहा, "भविष्य में क्या होगा, यह एक पहेली बना हुआ है। अगर कोविड के स्ट्रेन ऐसे ही संक्रामक बने रहे तो लंबे वक्त तक इसका सितम बना रह सकता है। यह आने वाले वर्षों में हम पर काफी तेज हमला कर सकता है।"
जरूर पढ़ें: होम आइसोलेशन में रहने वाले COVID-19 मरीजों के लिए जल्द ठीक होने का रामबाण नुस्खा

डॉ. गुप्ता ने कहा कि कोरोना के लिए आदर्श स्थिति वो होगी जब हमारे पास ओरल दवाएं हों। वो दवाएं, जो प्रभावी रूप से इस खतरनाक वायरस को मार सकें और इन दवाओं का इस्तेमाल ओपीडी के आधार पर करना भी सुरक्षित हो। लेकिन वह वक्त आने तक बाहर निकलते ही मास्क पहनना, हाथ को नियमित तौर पर सैनेटाइज करना और सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रहना, हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है। अब हमे इसे हमारे जीवन का एक हिस्सा बना लेना चाहिए।
वहीं, शिकागो में एलिनॉय यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स के मुताबिक कोरोना वायरस एक फ्लू की तरह मौसमी बीमारी हो सकता है। जबकि हैदराबाद के केआईएमएस अस्पताल में वरिष्ठ पल्मनोलॉजिस्ट डॉ. वी रमन प्रसाद के मुताबिक कोरोना वायरस अब किसी भी अन्य संचारी रोग (कम्यूनिकेबल डिजीज) की तरह कम्यूनिटी में हमेशा के लिए रहने वाला है।
प्रसाद ने बताया, "किसी भी राष्ट्र के लिए एकमात्र विकल्प यह है कि वो अपने अधिकांश नागरिकों का टीकाकरण करे, ताकि बीमारी की गंभीरता रुग्णता और मृत्यु दर के संदर्भ में कम से कम हो। अगले दो से तीन वर्षों के बाद यह वायरस स्थानिक हो सकता है और हमें स्वाइन फ्लू की ही तरह कोविड मामलों की छिटपुट तेजी देखने को मिल सकती है।"
गौरतलब है कि अब तक भारत में कोरोना वायरस के कई वेरिएंट सामने आ चुके हैं। अब देश कोरोना वायरस संक्रमण के ज्यादा घातक वेरिएंट्स का सामना कर रहा है। यहां तक कि अब देश को ट्रिपल-म्यूटेंट के खतरे ने भी घेर रखा है।
Don't Read: मत पढ़िए इस मुस्कुराती डॉक्टर की कहानी, कोरोना वायरस रोज दे रहा है दर्दभरी निशानी

कोरोना के E1617 वेरिएंट का पहली बार महाराष्ट्र में पता चला। इसमें दो अलग-अलग वायरस म्यूटेंट हैं जिनका नाम E484Q और L452R म्यूटेशन है। तीसरा म्यूटेंट, डबल म्यूटेंट से विकसित हुआ है और इसमें तीन अलग-अलग कोरोना स्ट्रेन ने मिलकर एक नया वेरिएंट पैदा किया है। इनमें से दो ट्रिपल-म्यूटेंट महाराष्ट्र, दिल्ली, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ से एकत्र सैंपल में मिले हैं।
ऐसा ही मानना जयपुर चेस्ट सेंटर के वरिष्ठ पल्मनोलॉजिस्ट शुभ्रांशु का भी है। वह कहते हैं कि ऐसा लग रहा है कि चीजों को सामान्य होने में तकरीबन एक से दो साल लग सकते हैं। लेकिन वो भी इस शर्त पर कि हम ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण करें और सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखें।
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar News: तेज प्रताप भी बन सकते हैं मंत्री, बिहार में 16 अगस्त को मंत्रिमंडल विस्तारBilkis Bano Gang Rape: आजीवन कारावास की सजा काट रहे सभी 11 दोषी रिहा, राज्य सरकार की माफी योजना के तहत जेल से आए बाहरIndependence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.