विदेशी मंत्री एस जयशंकर : रक्षा और निवेश के क्षेत्र में सहयोग को और बढ़ाने की जरूरत

 

  • ईएएम ने पहले से बेहतर माहौल में काम करने पर दिया जोर।
  • वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को नए सिरे से मजबूत करने की जरूरत ।

नई दिल्ली। फोर्थ इंडो-फिलीपींस संयुक्त आयोग की सह अध्यक्ष्ता करते हुए विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि हमारी प्राथमिकता व्यापार और निवेश, रक्षा, शिक्षा, आईसीटी और अंतरिक्ष में सहयोग को बढ़ाने पर केंद्रित है। इसके साथ ही उन्होंने दोनों देशों के बीच वीजामुक्त आवागमन पर भी फिलीपिंस के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की। उन्होंने इंडो पैसिफिक आसियान आउटलुक का हवाला देते कहा कि हम इस क्षेत्र में अपनी हिस्सेदारी पर बढ़ा रहे हैं। फिलीपिंस की ओर से टेडी लोकेन जूनियर ने इस बैठक में शामिल होने के लिए एस जयशंकर का आभार जताया ।

वैश्विक श्रृंखला को मजबूत करने पर बल 

इससे पहले इंडिया-नॉर्डिक बाल्टिक सीआईआई सम्मेलन में कहा था कि हमें वैश्विक अस्थिरता को ध्यान में रखते हुए वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को बढ़ावा देने के लिए आपसी साझेदारी पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हमें केवल खोए हुए आधार को प्राप्त करने पर जोर न देकर बेहतर तरीके से काम करने पर जोर देना चाहिए। इसके लिए आपसी सहयोग को पहले से ज्यादा मजबूत बनाने की जरूरत है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned