भारतीय वायु सेना की ताकत में होगा इजाफा, रूस से 200 करोड़ रुपए के एंटी टैंक मिसाइल खरीदेगा भारत

  • emergency clauses के तहत भारत Russia से खरीदेगा Strum Ataka anti tank मिसाइल
  • missiles का सौदा लगभग 200 करोड़ रुपए का
  • 3 महीने के अंदर रूस देगा मिसाइलों की आपूर्ति

 

नई दिल्ली। देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत ने अपने बेड़े में एक और रूसी मिसाइल को शामिल करने का फैसला किया है। इसके मद्देनजर भारत ने रूस के साथ 200 करोड़ रुपए के स्ट्रम अटका ( Strum Ataka ) 'एंटी टैंक' मिसाइल सौदे पर हस्ताक्षर किए हैं। बता दें कि 14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले के बाद सरकार ने तीनों सेनाओं को आपातकालीन अधिकार दिए थे। इसके तहत तीनों सेना जरूरत पड़ने पर 300 करोड़ रुपए के हथियार तत्काल प्रभाव से खरीद सकती है।

तीन महीने के अंदर मिसाइलों की आपूर्ति

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इसी आपातकालीन क्लॉस ( emergency clauses ) के तहत भारत ने रूस से स्ट्रम अटका 'एंटी-टैंक मिसाइलों को खरीदने का सौदा किया है। इस क्लॉस के मुताबिक, रूस तीन महीने के अंदर भारत को मिसाइलों की आपूर्ति करना शुरू कर देगा। बता दें कि इन मिसाइलों का सौदा लगभग 200 करोड़ रुपए में हुआ है। ये मिलाइल एंटी मिसाइल Mi-35s हेलिकॉप्टर में लगाए जाने से दुश्मन के टैंक और अन्य बख्तरबंद तत्वों से बचने में मदद करेगी।

 

आपातकालीन प्रावधानों के तहत समझौता

आपको बता दें कि Mi-35s हेलिकॉप्टर भारतीय वायु सेना के मौजूदा अटैक हेलिकॉप्टर हैं। इन्हें अमरीका से अधिग्रहित की जा रही 'अपाचे गनशिप' के साथ बदलने की तैयारी है। जिसे अगले महीने से वितरित की जाएगी। भारत लंबे समय से रूसी मिसाइलों का अधिग्रहण करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन एक दशक से अधिक समय के बाद आपातकालीन प्रावधानों के तहत इस समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। पिछले हफ्ते, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आपातकालीन प्रावधानों के तहत तीनों सेनाओं की ओर से की गई खरीद के बारे में एक प्रजेंटेशन दिया था।

 Mi-35s

वायु सेना निकली सबसे आगे

आपातकालीन खरीद के तहत हथियार अधिग्रहण के मामले में भारतीय वायु सेना सबसे आगे है, जिसके बाद भारतीय थल सेना ( Indian army ) है। iaf युद्ध के लिए खुद को तौयार करने के लिए इस आपातकालीन प्रावधान के तहत स्पाइस 2000 स्टैंड ऑफ वेपन सिस्टम के साथ कई स्पेयर और एयर टू एयर मिसाइल डील कई देशों से खरीदेगी। कई काउंटियों के साथ स्पेयर और एयर टू एयर मिसाइल सौदा किया है। इनमें स्पाइस -2000 स्टैंड-ऑफ हथियार प्रणाली का अधिग्रहण भी शामिल है। सेना आपातकालीन प्रावधानों के तहत रुस से इंग्ला-एस एयर डिफेंस मिसाइल तत्काल प्रभाव से खरीदने जा रही है।

Show More
Shivani Singh
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned